पत्थरबाज को जीप से बांधने वाले मेजर गोगोई का सम्मान

नई दिल्ली (22 मई): कश्मीर में पिछले दिनों पत्थरबाजों से निपटने के दौरान स्थानीय युवक को जीप से बांधकर मानव ढाल की तरह इस्तेमाल करने वाले मेजर नितिन गोगोई को सेना ने सम्मानित किया है। गोगोई को आतंकवाद निरोधी कार्रवाई के लिए चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ  यानी COAS कॉमन्डेशन से नवाजा गया है।

गोगोई उस वक्त सुर्खियों में आ गए थे, जब जम्मू-कश्मीर में एक स्थानीय युवक के आर्मी जीप से बंधे होने की तस्वीरें और विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी। बहुत सारे लोगों ने सेना के इस कदम की आलोचना की थी और इस मामले में कोर्ट ऑफ इंक्वॉयरी के आदेश भी हुए थे।


हालांकि, बहुत सारे रक्षा जानकारों ने इस कदम की यह कहते हुए सराहना की कि इससे घाटी में हिंसा काबू करने में मदद मिली। इन लोगों का कहना है कि आम तौर पर पत्थरबाजी होने पर सेना को बल प्रयोग करना पड़ता है। इस कदम से बिना किसी हिंसा के पत्थरबाजों से निपटने में मदद मिली। सेना के सूत्रों के मुताबिक, जिन हालात में गोगोई ने ऐसा फैसला लिया, उसमें आम तौर पर सेना को फायरिंग करनी पड़ती है, लेकिन मेजर ने समझदारी का परिचय देते हुए यह कदम उठाया। स्थानीय युवक के जीप पर बंधे होने की वजह से भीड़ ने पत्थरबाजी ने नहीं की और पूरा काफिला सुरक्षित घटनास्थल से निकलने में कामयाब रहा।