सिनेमेटोग्राफी एक्‍ट में होगा बदलाव, किसी को नहीं होगा फिल्मों में काट लगाने का अधिकार

नई दिल्‍ली (12 अगस्त): संसद के शीत सत्र में सिनेमेटोग्राफी एक्‍ट में बदलाव को लेकर बिल पेश होगा। हाल के दिनों में प्रमाणन की प्रक्रिया को लेकर हुए विवाद के बाद सरकार सेफ मोड में है। 

क्या हैं इस बिल के प्रमुख बिंदू > बिल के पास हो जाने के बाद फिल्‍मों को चार तरह की श्रेणियों में सर्टिफिकेट मिलेंगे। > ये हैं U12+, U15+, A and A+ (बहुत ज्‍याद हिंसा और सेक्‍स सीन होने की स्थिति में)। > फिल्मों में काट-छांट करने का अधिकार किसी को नहीं होगा। > मॉनिटर कमेटी एक दिन में दो से ज्‍यादा फिल्‍में नहीं देखेगी। > वो निर्माता जो तुरंत क्लियरेंस चाहते हैं उनके लिए तत्काल कैटेगरी बनाई जाएगी। > इसके लिए अगल से रकम चुकानी होगी। इससे मिलने वाली रकम को श्रम मंत्रालय के पास भेजा जाएगा। जिसका उपयोग फिल्म निर्माण में लगे कर्मियों की भलाई के लिए किया जाएगा। > वर्तमान में बार-बार दिखाए जाने वाले धूम्रपान से संबंधित चेतावनी को अब सिर्फ एक बार फिल्म के आरंभ में दिखाया जाएगा।