महाशिवरात्रि आज दूध-जल-शहद-खीर और गन्ने के रस से होता है रुद्राभिषेक

नई दिल्ली (24 फरवरी): सनातन धर्म में हर देवी-देवता से संबंधित दिन और त्यौहार मौजूद हैं। उसी तरह शिवरात्रि का त्यौहार संपूर्ण रूप से शिव-पार्वती को समर्पित है। महाशिवरात्रि के दिन शिव-पार्वती का विवाह हुआ था, जिसकी साक्षी पूरी सृष्टि बनी थी।

इस दिन भगवान जल या दूध से शिवलिंग का अभिषेक करते हैं। शिव भोलेनाथ हैं इसलिए बहुत ही जल्द अपने भक्तों से प्रसन्न हो जाते हैं। शुभ मुहूर्त के बिना कोई भी शुभ कार्य संपन्न नहीं हो सकता। इस बार 24 फरवरी और 25 फरवरी दोनों ही दिन शिवरात्रि मनाई जाएगी, दोनों ही दिन अनुष्ठान चलेंगे। परंतु रुद्राभिषेक और उपवास के लिए 24 फरवरी का दिन ही उत्तम है। दूध-जल-शहद-खीर और  गन्ने के रस से अलग-अलग रुद्राभिषेक करने से अलग फल की प्राप्ति होती है

ये हैं रुद्राभिषेक या महादेव की पूजा के समयः

24-02-2017

शाम 6 बजकर 15 मिनट बजे से रात 9 बजकर 23 मिनट तक।

दूसरा- 9 बजकर 23 मिनट से रात 12 बजकर 23 मिनट तक।

25-02-2017

मध्य रात्रि शून्य बजकर 33 मिनट से 3 बजकर 43 मिनट तक।

3 बजकर 43 मिनट से सुबह 6 बजकर 52 तक।