महाराष्ट्र में 8 महीने में 580 किसानों ने की खुदकुशी

मुंबई (17 अगस्त): महाराष्ट्र में बदहाल किसानों की हत्या का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। सूखे से बेहाल मराठवाड़ा में फिर किसानों की खुदकुशी का सिलसिला शुरू हो गया है। एक आंकड़े के मुताबिक यहां रोजाना औसतन रोज चार किसान खुदकुशी कर रहे हैं।पिछले 8 दिन में 34 किसानों ने खुदकुशी कर ली है। औरंगाबाद जिले में 5, बीड में 12, नांदेड में 9, परभणी में 7, जालना में 6, लातूर में 5, उस्मानामबाद में 4 और हिंगोली जिले में एक किसान ने आत्महत्या की है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक जनवरी 2017 से 15 अगस्त 2017 तक मराठवाडा में 580 किसानों ने खुदकुशी की है। हालांकि अधिकारिक तौर पर इन आत्महत्याओं की वजह साफ नहीं की गई है, लेकिन मराठवाड़ा में इस साल फिर से बन रही सूखे की स्थिति को इसकी मुख्य वजह माना जा रहा है। पिछले 48 दिन से मराठवाड़ा में एक बूंद भी बारिश नहीं हुई है। वहां कई जिलों में किसानों की पहली बुआई कम बारिश की भेंट चढ़ने के बाद दूसरी बुआई भी बर्बाद हो गई है।