Blog single photo

इस्तीफा देने के बाद बोले फडणवीस, कहा- उद्धव जी ने मेरा फोन नहीं उठाया

महाराष्ट्र में जारी कुर्सी की खींचतान के बीच फडणवीस ने सीएम पद से इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया। इस्तीफा देने के बाद देवेंद्र फडणवीस ने शिवसेना पर जमकर हमला किया। फडणवीस ने कहा शिवसेना से कभी हमारी बात 50-50 के फॉर्म्युला पर नहीं हुई।

न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (8 नवंबर): महाराष्ट्र में जारी कुर्सी की खींचतान के बीच फडणवीस ने सीएम पद से इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया। इस्तीफा देने के बाद देवेंद्र फडणवीस ने शिवसेना पर जमकर हमला किया। फडणवीस ने कहा शिवसेना से कभी हमारी बात 50-50 के फॉर्म्युला पर नहीं हुई। उन्होने कहा शिवसेना चुनाव हमारे साथ  जीतकर आई और बात एनसीपी से करती रही। महाराष्ट्र के राजभवन में इस्तीफा देने जाते वक्त फडणवीस के साथ बीजेपी के कुछ अन्य नेता भी मौजूद थे। शिवसेना की सीएम पद की मांग को लेकर गतिरोध जारी रहने के कारण यह स्पष्ट नहीं है कि अगली सरकार कौन बनाएगा। हालांकि, बीजेपी के नेता लगातार दावा कर रहे हैं कि शिवसेना के साथ ही सरकार बनेगी और देवेंद्र फडणवीस ही दोबारा मुख्यमंत्री बनेंगे। फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार बीजेपी की ही बनेगी, शिवसेना ने मोदी पर ऐसे आरोप लगाए जो कभी एनसीपी और कांग्रेस ने भी नहीं लगाए। आगे उन्होंने कहा बीजेपी ने शिवसेना के नेताओं की बयानबाजी का कोई जवाब नहीं दिया जबकि जवाब हम भी देना जानते है, लेकिन उद्धव ठाकरे के करीबी बीजेपी के बारे में गलत बयानबाजी करते रहे। आगे फडणवीस ने कहा कि नतीजे आने के बाद मैं उद्धव जी को फोन करता रहा,  लेकिन उन्होंने मेरा फोन रिसीव नहीं किया। 

अभी तक...

इस्तीफा देने के बाद देवेंद्र फडणवीस ने प्रेस वार्ता की। इस दौरान  उन्होंने कहा- हमने 5 साल पारदर्शिता के साथ सरकार चलाने की कोशिश की और इसी का नतीजा है की विधानसभा चुनाव में हमारी जीत की दर भी बढ़ी है। आगे फडणवीस ने कहा राज्य में बीजेपी का जीत का स्ट्राइक रेट 70 फीसद रहा है। इस चुनाव में महाराष्ट्र की जनता ने महायुति को जनादेश दिया है। फडणवीस ने सभी सहयोगी पार्टियों को धन्यवाद कहा। शिवसेना पर निशाना साधते हुए फडणवीस ने कहा कि चुनाव से पहले  कोई भी ढाई-ढाई साल सरकार बनाने की बात तय नहीं हुई थी, हमें उम्मीद के मुताबिक सीटें नहीं मिली।ढाई साल का सीएम फॉर्म्युला शिवसेना का बहाना है।

 उन्होंने कहा, अमित शाह के साथ बैठक में सीएम पद पर कोई बात नहीं की। बातचीत करके विवाद को सुलझाया जा सकता था। नतीजे आते ही हमने उद्धव ठाकरे को शुक्रिया कहा था। हमने शिवसे की तरफ से हो रही बयानबाजी का एक भी जवाब नहीं दिया।कांग्रेस के खरीद-फरोख्त के आरोप निराधार हैं। आगे उन्होंने कहा, जानादेश मिलने के बाद भी सरकार न बनाने का अफसोस है और कोई भी  राजनीतिक पार्टी हमारी दुश्मन नहीं है, उनसे हमारे मतभेद वैचारिक हैं।

देवेंद्र फडणवीस ने राजभवन पहुंचकर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को अपना इस्तीफा सौंपा है। 

महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस राज्यपाल को अपना इस्तीफा देने पहुंचे

बीजेपी महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए पूरे जोर लगा रही है, लेकिन शिवसेना की जिद ने उसके अरमानों को सिरे से लगा दिया है। अब पार्टी के वरिष्ट नेता नीतिन गडकरी मुंबई पहुंच चुके हैं। 

केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता नीतिन गडकरी ने कहा है कि महाराष्ट्र में शिवसेना से कोई ढाई-ढाई साल का फार्य्मूला तय नहीं हुआ था। राज्य में देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में सरकार बनेगी। अगर जरूरत पड़े तो मध्यस्था निभाने को  तैयार हूं।

- अगर महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाया जाता है तो यह जनादेश का अपमान होगा- संजय राउत 

- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाना चाहती है BJP,ये अपमान नहीं सहन करेगी यहां की जनता- नवाब मलिक, नेता एनसीपी

- शिवसेना के विधायकों को खरीदने की कोशिश हुई थी, कांग्रेस विधायकों को हिदायत, किसी का भी फोन आए उसे रिकॉर्ड करें- महाराष्ट्र कांग्रेस के विधायक दल के नेता विजय वडेट्टीवार

- नितिन गडकरी नागपुर से मुंबई के लिए रवाना हुए। मातोश्री  में आज उनकी शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात हो सकती है। इस बीच संजय राउत ने कहा है कि अगर नितिन गडकरी 50-50 फॉर्मूले से शिवसेना का मुख्यमंत्री बनने का पत्र लेकर आते हैं तो ही उनकी उद्धव ठाकरे से मुलाकात कराई जाएगी

- विधानसभा का कार्यकाल खत्म होने से पहले आज सीएम पद से इस्तीफा दे सकते हैं देवेंद्र फडणवीस

- महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर फैसले का आज आखिरी दिन

- कल खत्म हो जाएगा मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल

- महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर अभी तक असमंजस बरकरार

- महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और एडवोकेट जनरल आशुतोष कुंभकोणी की मुलाकात

- मौजूदा हालात में संविधान के तहत क्या किया जा सकता है उस पर हुई चर्चा

- बीजेपी और शिवसेना में सरकार बनाने को लेकर जारी है तकरार

नई सरकार पर असमंजस के बीच शिवसेना ने खरीद-फरोख्त की आशंका के चलते अपने विधायकों को होटल में ठहरा दिया है। गुरुवार दोपहर हुई शिवसेना विधायकों की बैठक में उद्धव ठाकरे को सभी फैसले लेने का अधिकार सौंप दिया गया। बैठक के बाद खरीद-फरोख्त के डर से शिवसेना ने अपने विधायकों को रंग शारदा होटल में ठहरा दिया है। देर रात शिवसेना विधायक आदित्य ठाकरे खुद गाड़ी ड्राइव करके होटल पहुंचे। आदित्य ने उधर वंचित बहुजन अगड़ी पार्टी के नेता प्रकाश अंबेडकर ने भी गुरुवार को राज्यपाल से मुलाकात कर महाराष्ट्र के सियासी हालात पर चर्चा की। उन्होंने सूबे में राष्ट्रपति शासन की मांग की क्योंकि अभी तक किसी भी दल ने सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किया है। 

Tags :

NEXT STORY
Top