दाऊद कनेक्शन और जमीन विवाद में फंसे मंत्री एकनाथ खडसे ने दिया इस्तीफा

मुंबई (4 जून): दाऊद कनेक्शन और जमीन विवाद में फंसे महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री एकनाथ खडसे ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि मुख्यमंत्री फड़नीस शनिवार की सुबह खडसे से मिलने पहुंचे थे। एकनाथ खडसे ने मुख्यमंत्री  फड़नीस से मिलने के बाद इस्तीफा दिया है हम आपको बता दें कि बीजेपी सरकार में पहली बार ऐसा हुआ है कि जब किसी घोटाले के आरोप में फंसे मंत्री ने इस्तीफा दिया हो। 

रेवेन्यू मिनिस्टर एकनाथ खडसे पर आरोप है कि उन्होंने अपनी पत्नी मंदाकिनी और दामाद गिरीश चौधरी के नाम से पुणे में एक जमीन खरीदी। उन्होंने पद का दुरुपयोग कर यह डील की है। बता दें कि खडसे के मामले में सीएम फड़नवीस ने पहले प्रधानमंत्री के साथ और फिर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के साथ बातचीत की थी। इसके बाद ही साफ हो गया था कि खडसे इस्तीफा दे सकते हैं। 

खडसे पर आरोप है कि उन्होंने अपने पद का दुरुपयोग कर एमआईडीसी की जमीन को खरीदा। साथ ही खडसे की पत्नी मंदाकिनी और दामाद गिरीश चौधरी ने मिलकर इस साल अप्रैल में पुणे में तीन एकड़ जमीन खरीदी थी और 3.75 करोड़ रुपए का भुगतान किया था। इसके लिए चुकाए गए स्टाप्म ड्यूटी के तौर पर 1.37 करोड़ रुपए को लेकर भी सवाल खड़े हुए हैं। सवाल यह है कि 3.75 करोड़ की जमीन पर इतनी ज्यादा स्टाप्म ड्यूटी क्यों जमा कराई गई। क्योंकि 1.37 करोड़ की स्टाप्म ड्यूटी चुकाने के लिए पहले 31.01 करोड़ की चीज को खरीदना पड़ता है।

जमीन विवाद के अलावा खडसे पर अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से फोन पर बात को लेकर भी आरोप है। इसे लेकर एथिकल हैकर मनीष भंगाले ने इस मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर की है। भंगाले ने दावा किया था कि दाऊद इब्राहिम के कराची वाले घर के लैंडलाइन फोन से एकनाथ खडसे के नाम पर रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर बार-बार कॉल की गई। भंगाले ने पाकिस्तान टेलीकम्युनिकेशन कंपनी लिमिटेड का बिल पेश कर यह दावा किया था। भंगाले ने कहा कि वे दाऊद के कराची के लैंडलाइननंबर की कॉल डिटेल्स 18 मई को मुंबई पुलिस कीक्राइम बांच को दे चुके हैं, लेकिन तब से अब तक इसमामले में कोई केस दर्ज नहीं हुआ। भंगाले ने कहा किकुछ लोगों ने उनके ईमेल को नष्ट करने ओर डाटामिटाने का प्रयास किया, ताकि उनके द्वारा जुटाएगए इलैक्ट्रॉनिक प्रमाण बर्बाद किए जा सकें।