महाराष्ट्र में रेप और रेप के बाद मर्डर के अपराधियों को परोल नहीं

मुंबई (31 अगस्त): महाराष्ट्र सरकार के नए कानून के अनुसार रेप और रेप के बाद मर्डर के अपराधियों को परोल नहीं दी जाएगी। इसके अलावा अन्य जघन्य अपराधियों को भी परोल नहीं मिलेगी। सरकार का यह फैसला पल्लवी पुरकायस्थ मर्डर केस को देखते हुए आया है। हाल के वर्षों मे परोल पर जेल से बाहर गए अपराधियों के फरार होने के मामलों में वृद्धि हुई है।

मुंबई में पल्लवी पुरकायस्थ मर्डर केस का दोषी सज्जाद मुगल के परोल पर छूटने के बाद फरार हो गया था। जिसे ध्यान में रख कर महाराष्ट्र सरकार ने यह फैसला लिया है। पल्लवी का रेप कर उसकी हत्या सोसायटी के गार्ड सज्जाद ने की थी। सज्जाद को 2014 में उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी। इस साल मार्च में अपनी बीमार मां को देखने के लिए उसे परोल पर रिहा किया गया था लेकिन वह फरार हो गया। पुलिस टीम उसे पकड़ने के लिए उसके गृह राज्य जम्मू और कश्मीर में भी गई लेकिन वह सज्जाद अब तक पुलिस की पकड़ से बाहर है।

पेशे से वकील और राष्ट्रीय स्तर की तैराक पल्लवी के अपार्टमेंट में सज्जाद डुप्लीकेट चाबी के मदद से घुसा और पल्लवी का रेप करने की कोशिश की। जब पल्लवी ने इसका विरोध किया तो सज्जाद ने उसका गला काट के बेरहमी से हत्या कर दी थी।

महाराष्ट्र गृह विभाग ने पिछले हफ्ते परोल के सभी ऐप्लीकेशन्स को होल्ड पर रख दिया था। विभाग ने कहा था कि नए कानून आने से पहले किसी को भी परोल नहीं दी जाएगी। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा लोग परोल पर फरार हुए हैं जिससे सरकार के लिए हालत शर्मनाक बन गए थे। इसके अलावा राज्य सरकार ने 1993 बॉम्बे ब्लास्ट के केस में सजा काट रहे अभिनेता संजय दत्त को परोल पर रिहा किया था।