Blog single photo

महाराष्ट्र सरकार के अधीन रहेगा शनि शिंगणापुर ट्रस्ट, कैबिनेट ने दी मंजूरी

महाराष्ट्र सरकार ने प्रसिद्ध शनि शिंगणापुर मंदिर ट्रस्ट को अपने अधीन करने का फैसला किया है। बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में इसे मंजूरी मिली। सरकार अब ट्रस्ट पर करेगी निगरानी हिसाब किताब का कारोबार भी सरकार के लॉ और ज्यूडिशरी विभाग के अधीन होगा।

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 20 जून ): महाराष्ट्र सरकार ने प्रसिद्ध शनि शिंगणापुर मंदिर ट्रस्ट को अपने अधीन करने का फैसला किया है। बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में इसे मंजूरी मिली। सरकार अब ट्रस्ट पर करेगी निगरानी हिसाब किताब का कारोबार भी सरकार के लॉ और ज्यूडिशरी विभाग के अधीन होगा। शिंगणापुर में हर साल लाखों श्रद्धालु दर्शन करने आते है और करोड़ो का चढ़ावा हर साल चढ़ाया जाता है। श्रद्धालुओं को उचित सुविधाए देने सरकार ने उठाया कदम आज राज्य सरकार के कैबिनेट मीटिंग में ये फैसला किया है।

आपको बता दें कि शनि शिंगणापुर धाम शिरड़ी से 70 किमी. की दूरी पर स्थित है। कई श्रद्धालु जो शिरड़ी के दर्शन करने जाते हैं वो शिंगणापुर धाम भी जरूर जाते हैं। वर्तमान में शिंगणापुर मंदिर ट्रस्ट के पास 60 बेड वाला अस्पताल और एक गौशाला है। इसके अलावा यहां श्रद्धालुओं को 20 रुपये प्रति व्यक्ति भोजन मुहैया कराया जाता है।

ट्रस्ट पर आज तक भ्रष्टाचार का भी कोई आरोप नहीं लगा है। लेकिन राज्य सरकार का कहना है कि वह बेहतर प्रबंधन के लिए इसे अपने अधीन ले रही रही है। कांग्रेस ने भी राज्य सरकार के इस कदम का स्वागत किया है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चौहान ने कहा, 'यह एक अच्छा निर्णय है। मंदिर को पुजारियों और ट्रस्ट के हाथों नहीं सौंपना चाहिए। एक सेक्युलर सरकार के कर्मचारी को मंदिर का मुखिया नियुक्त करना चाहिए।'

 

Tags :

NEXT STORY
Top