Blog single photo

महाराष्ट्र में और बढ़ा सरकार का इंतजार, एक दिन के लिए टली सोनिया और शरद पवार की मीटिंग

महाराष्ट्र में सरकार का गठन का इंतजार लगातार बढ़ता ही जा रहा है। शिवसेना के साथ संभावित गठबंधन पर चर्चा के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार के बीच आज होने वाली बैठक एक दिन के लिए टल गई है। वहीं शरद पवार ने पुणे में आज एनसीपी कोर कमेटी की एक बैठक बुलाई है।

न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (17 नवंबर): महाराष्ट्र में सरकार का गठन का इंतजार लगातार बढ़ता ही जा रहा है। शिवसेना के साथ संभावित गठबंधन पर चर्चा के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार के बीच आज होने वाली बैठक एक दिन के लिए टल गई है। वहीं शरद पवार ने पुणे में आज एनसीपी कोर कमेटी की एक बैठक बुलाई है। बताया जा रहा है कि इस मीटिंग की वजह से शरद पवार का आज समय पर दिल्ली पहुंचना संभव नहीं हो पाएगा। लिहाजा सोनिया गांधी और शरद पवार के बीच होने वाली बैठक को एक दिन के लिए टाल दिया गया है। जानकारी के मुताबिक एनसीपी कोर कमेटी की बैठक पुणे में आज शाम चार बजे शुरू होगी। इसके बाद पवार शाम को दिल्ली रवाना होंगे।  

बताया जा रहा है कि कांग्रेस और एनसीपी पहले ही सरकार गठन के लिए शिवसेना के साथ एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम (सीएमपी) पर चर्चा कर चुके हैं। मुख्यमंत्री पद के बंटवारे के मुद्दे पर बीजेपी और शिवसेना के बीच चली खींचतान के बाद राज्य में 12 नवंबर को राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था। राज्य में सरकार गठन को लेकर शनिवार को शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी नेता राज्यपाल से मिलने वाले थे, लेकिन इस मुलाकात को भी टाल दिया गया था। बताया जा रहा है कि तीनों दलों के नेता राज्य में प्रशासनिक दिक्कतों और किसानों की समस्याओं को लेकर आज राज्यपाल से मिलने वाले थे।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में सत्ताधारी बीजेपी और शिवसेना ने साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ा था। चुनाव नतीजों में बीजेपी 105 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी, वहीं शिवसेना 56 सीटें पाकर दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनी। वहीं एनसीपी और कांग्रेस के खाते में 54 और 44 सीटें आईं। चुनाव नतीजे आने के बाद शिवसेना और बीजेपी के बीच मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर खींचतान शुरू हो गई। शिवसेना 50-50 फॉर्मूले पर अड़ गई और बीजेपी के सीएम की कुर्सी देने को तैयार नहीं थी। इसके बाद 30 साल पुराना गठबंधन टूट गया और अब शिवसेना तीसरे और चौथे स्थान की पार्टी एनसीपी-कांग्रेस के साथ सरकार बनाने की कोशिश में जुटी है।

Tags :

NEXT STORY
Top