महाराष्ट्र में किसानों की हड़ताल, सड़क पर फेंकी सब्जियां और बहाया दूध

नई दिल्ली ( 1 जून ): पूरे महाराष्ट्र में गुरुवार को किसानों के हड़ताल पर जाने का असर बुधवार रात से ही सभी जगह दिख रहा है। दूध और सब्जी ले जानेवाले गाड़ियों के साथ तोड़फोड़ की गई। सब्जियों और दूध को सड़क पर फेंककर किसानों ने विरोध जताया। किसानों ने हड़ताल पर जाने का ऐलान किया वहीं साथ ही किसानों ने ये भी ऐलान किया कि वो गांव से कोई भी सब्जी महाराष्ट्र के किसी भी शहर में पहुंचने नहीं देंगे। किसानों की हड़ताल से नागरिकों को आवश्यक चीजे मिलने में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।


राज्य सरकार से बातचीत विफल होने के बाद किसान गुरुवार से हड़ताल पर चले गए हैं। किसानों ने सब्जी व दूध बाजार में नहीं बेचने का फैसला किया है। उनका दावा है कि हड़ताल के चलते शहरों में कृषि उत्पाद नहीं पहुंच सकेगा। इन सब के बीच किसानों ने मुंबई और सतारा में दूध सप्लाई के लिए जा रहे टैंकरों को रोक हजारों लीटर दूध सड़क पर बहा दिया।

किसानों की हड़ताल का पहला असर सातारा में देखने को मिला। जहां पुणे-बेंगलुरु महामार्ग पर किसानों ने आक्रामक रुख दिखाते हुए कोल्हापुर से मुंबई जा रहे दूध के ट्रक के साथ तोड़फोड़ की। किसान संगठन के लोगों ने वारणा दूध डेयरी के दो ट्रकों का दूध सड़क पर बहा दिया। इस दौरान संगठन के लोगों ने ट्रक चालकों के साथ मारपीट भी की।


कर्जमाफी और अन्य मांगों को लेकर महाराष्ट्र में किसान संगठन गुरुवार को हड़ताल पर हैं। राज्यव्यापी हड़ताल में किसानों ने सरकार को सबक सिखाने के लिए माल शहरी बाजार तक ना पहुंचने देना का ऐलान किया है।