डॉक्टरों की हड़ताल पर सरकार सख्त, दी 6 महीने का वेतन काटने की चेतावनी

नई दिल्ली ( 22 मार्च ): बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी बुधवार को सरकारी हॉस्पिटल के डॉक्टर काम पर नहीं लौटे। इस पूरे मामले में महाराष्ट्र सरकार ने कार्रवाई का मन बना लिया है।


महाराष्ट्र के मेडिकल एजुकेशन मंत्री महाराष्ट्र गिरीश महाजन ने डाॅक्टरों को चेतवानी देते हुए कहा कि अगर डाक्टर आज रात 8 बजे तक हड़ताल से वापस नहीं लौटे तो 6 महीने की सैलरी नहीं दी जायेगी।


गिरीश महाजन ने कहा कि मेडिकल डायरेक्टर और जे जे के डीन और अन्य लोगो से बात की है 4000 से भी ज़्यादा डॉक्टर स्ट्राइक पर हैं। मार्ड से हमारी चर्चा चल रही है। कोर्ट ने भी कड़ी फटकार लगाई है। 1100 नए सिक्योरिटी गार्ड हम उन्हें दे रहे है जिस के लिए हमें 33 करोड़ का खर्चा उठाना पड़ रहा है। हमने सब उन्हें लिखित दिया है फिर भी वो मान नहीं रहे है।

गिरीश महाजन कहा कि हमने इन डॉक्टर्स को कहा है आज शाम 8 बजे तक अगर वापस नहीं लौटे तो उनकी 6 महीने की सैलरी काट ली जायेगी।  
उनकी मांग जायज है 5 दिन में 500 गार्ड और अगले 15 दिन में 600 गार्ड देंगे फिर भी डॉक्टर्स नहीं मान रहे हैं। मेसमा और एस्मा कानून का हम इस्तेमाल कर सकते है फिलहाल हम कठोर कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कई अस्पताल में हालात गंभीर हैं। मरीज की मौत की खबरे आ रही हैं। हालात बिगड़ रहे हैं।


सरकारी डॉक्टरों पर कार्रवाई शुरू

 महाराष्ट्र के दो बड़े अस्पतालों ने हड़ताली कर्माचारियों के खिलाफ कार्रवाई की है।


सोलापुर सरकारी अस्पताल के डीन ने 114 हड़ताल पर जाने की वजह से 114 रेजिडेंट डाॅक्टरों को सस्पेंड कर दिया है। तो वहीं जेजे अस्पताल ने भी हड़ाताली डाॅक्टरों पर कार्रावाई की है।