महाराष्ट्र: डॉक्टर्स की हड़ताल जारी, मरीज परेशान

नई दिल्ली ( 22 मार्च ): मुम्बई के डाॅक्टरों का हड़ताल खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। भाभा हॉस्पिटल के रेजिडेंट डॉक्टर्स भी इस हड़ताल में शामिल हो गए हैं। ओपीडी की सेवाएं बंद हैं केवल आपातकालीन सेवा ही चालू है।


रेजिडेंट डॉक्टरों ने सामूहिक अवकाश लेकर हड़ताल शुरू की है। हालांकि रेजिडेंट्स डॉक्टरों को बॉम्बे हाइकोर्ट ने हड़ताल पर जाने के लिए मना किया है और मामला अदालत में लंबित है। इसलिए ये डॉक्टर सामूहिक अवकाश पर गए हैं। 


हालांकि रेजिडेंट डॉक्टर्स की एसोसिएशन MARD ने कानूनी कार्यवाही से बचने के लिए अपने आप को इस हड़ताल या सामूहिक अवकाश से अलग कर लिया है और उनका कहना है कि मुंबई समेत राज्यभर में डॉक्टर मारपीट के विरोध मे स्वेच्छा से अवकाश पर गये हैं।


-राज्य में कुल 16 मेडिकल कॉलेज के मॉर्ड का प्रभुत्व है।

-मुबई में केम, सायन, नायर, जेजे, सेंट जॉर्ज, जीटी हास्पिटल के डाॅक्टर्स हड़ताल पर हैं।

-पूरे राज्य में कुल पांच हजार रेजिडेंट डॉक्टर्स हैं जिसमें से करीब 2000 मुम्बई में हैं।

-लेकिन कई रेजिडेंट डॉक्टर्स हड़ताल पर नहीं हैं।

-मरीज इलाज न मिलने की वजह से परेशान हैं और उन्हें बिना इलाज के ही घर वापस लौटना पड़ रहा है।

-13 मार्च को धुले में डॉक्टर के साथ मारपीट हुई थी।

-17 मार्च नासिक में रात दस बजे। यहां परिजनों ने न सिर्फ दो ट्रेनी डॉक्टर के साथ मारपीट की बल्कि एक नर्स के कपड़े भी फाड़ने की कोशिश हुई थी।

-सायन अस्पताल मुम्बई में भी रविवार को एक डॉक्टर के साथ धक्का मुक्की हुई।

-आज औरंगाबाद के राजकीय अस्पताल में एक ऑर्थो डॉक्टर को परिजनो ने पीटा।

-वाडिया अस्पताल में आज सुबह एक रेजिडेंट डॉक्टर को पीटा गया।