RTI से हुआ खुलासा, सीएम फडणवीस का ई चालान समेत 13 हजार का फाइन रद्द

Image Source: Google

दीपक दुबे, न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (13 दिसंबर): महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की कार द्वारा ट्रेफिक नियम तोड़ने के मामलें में 11 E चालान ट्रेफिक पुलिस द्वारा जनवरी 2018 से अगस्त 2018 तक काटे गए थे। जिसका कुल फाइन 13 हजार रूपये तक हुआ था। लेकिन अब मुंबई ट्रेफिक पुलिस ने E चालान को वापस लेते हुए सारे चालान को कैंसल कर दिया है, जिस पर अब राजनैतिक गलियारों में जमकर सियासत की जा रही है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कुल 11 बार ट्रेफिक नियमों को तोड़ा जिसका कुल फाइन 13 हजार रूपये बनता है और इसका खुलासा एक आरटीआई के ज़रिए हुआ है। लेकिन अब इस पूरे मामले को लेकर दूसरी जानकारी सामने आ रही है। दरअसल, आरटीआई में पूछा गया था कि क्या फडणवीस ने फाइन भरा या नहीं इस पर सुरक्षा करने को हवाला दिया गया मुख्यमंत्री के काफिले की सारी कारों के  E चालान को  कैंसल कर दिया गया। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि  जब भी कोई ट्रैफिक नियमों को तोड़ता है तो ऑटोमेटिक कैमरे के जरिये गाड़ी का नंबर स्कैन हो जाता है और ऑटोमेटिक E चालान कट जाता है।  

RTI से हुआ था खुलासाअगस्त महीने में आरटीआई से खुलासा हुआ था की मुख्यमंत्री की कार ने ट्रेफिक नियमों की अनदेखी की और एक दो बार नहीं बल्कि कुल 11 बार ट्रेफिक नियमों की धज्जियां उड़ाई। जबकि कोई आम शख्स ट्रेफिक नियम को तोड़ता है तो उसे फाइन भरना अनिवार्य होता है , मुंबई पुलिस ने स्टेटमेंट जारी कर कहा मुख्यमंत्री की कॉन्वॉय को सुरक्षा कारणों की वजह से छूट होती है। आरटीआई एक्टिविस्ट शकील अहमद के मुताबिक जब ट्रैफिक डिपार्टमेंट से CM के E चालान संबंधित जानकारी मांगी गई कि क्या कोई ऐसा कोई नियम है जिसके मुताबिक CM के कॉन्वॉय को छूट मिलती है। ट्रैफिक नियमों के उलंघन की तो पहले जानकारी देने से मना किया गया और कहा गया कि स्पेशल प्रिविलेज एसेम्बली मेम्बर होने के नाते जानकारी साझा नही की जा सकती लेकिन जब पहली अपील फाइल की गई तो डीसीपी लेवल के अधिकारी से आरटीआई एक्ट के तहत मांगी गई तो जानकारी का साझा किया गया।जिसके बाद ट्रैफिक डिपार्टमेंट की तरफ से कहा गया कि 11E चालान कैंसल किये गए, उसका फाइन कोई भी नही भरेगा। मुख्यमंत्री को छूट को लेकर कहा गया कि मिनिस्ट्री ऑफ रॉड ट्रांसपोर्ट और हाइवे के गैजेट के जरिये कहा गया मुख्यमंत्री को Z प्लस सुरक्षा है जहाँ एजेंसी को कई थ्रेटस समय-समय पर मुख्यमंत्री से संबंधित मिलते रहते है, वहीं सेंट्रल गवर्मेंट के गैजेट नोटिफिकेशन के मुताबिक साफ लिखा है एम्बुलेंस, फायरब्रिगेड, पुलिस की गाड़ियों को छूट है एमरजेंसी हालातों में ,इस मामलें में जब तूल पकड़ा था तो ट्रैफिक पुलिस किंतर्फ से कहा गया था कि मुख्यमंत्री के काफिले को स्पीड लिमिट्स से छूट है सुरक्षा कारणों की वजह से, सॉफ्टवेयर में टेक्निकल गलीच की वजह से E चालान इसु हुआ था जिसे बाद में बदल दिया गया। बता दें कि CM की गाड़ी नम्बर MH01CP0037,MH01CP0038ने 11 बार वर्ली सी लिंक पर ट्रैफिक नियमों का उलंघन किया, जो कि ट्रैफिक डिपार्टमेन्ट के कैमरे में 12 जनवरी 2018 से लेकर 12 अगस्त 2018 के बीच कैद हुआ।