Blog single photo

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव: क्या एकतरफा होगी जंग ?

भले ही महाराष्ट्र में अभी विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान नहीं हुआ है लेकिन तमाम सियासी पार्टियां चुनावी रणनीति बनाने में जुटी है। एक तरफ जहां सत्ताधारी बीजेपी और शिवसेना गठबंधन एकबार फिर (दोबारा) से सत्ता में वापसी की कवायद में जुटी है

Maharastra

विनोद जगदाले, न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (18 अगस्त): भले ही महाराष्ट्र में अभी विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान नहीं हुआ है लेकिन तमाम सियासी पार्टियां चुनावी रणनीति बनाने में जुटी है। एक तरफ जहां सत्ताधारी बीजेपी और शिवसेना गठबंधन एकबार फिर (दोबारा) से  सत्ता में वापसी की कवायद में जुटी है, वहीं कांग्रेस और एनसीपी भी चुनावी दंगल में उतरने की तैयारी में है। हालांकि महाराष्ट्र विधानसभा की जंग एकतरफा होने के आसार हैं। एक तरफ जहां सत्ताधारी बीजेपी-शिवसेना विपक्ष के विरोध को नाकाम करने में सफल हो रही हैं, वहीं दुसरी तरफ सरकार को घेरने में विपक्ष नाकाम साबित हो रहा है। ऐसे सवाल उठता है कि क्या यह विधानसभा की जंग एकतरफा होगी?

महाराष्ट्र विधानसभा का इसबार का चुनाव विपक्ष की नाकामी के चलते एकतरफा होने के आसार नजर आ रहे हैं। सूबे में मराठवाड़ा का अकाल, किसानों की आत्महत्या, आपराधिक मामलों में बढ़ोतरी, राज्य के सिर पर बढ़ रहा कर्ज का बोझ, फसल बीमा योजना में हो रही गड़बड़ियां, कर्जमाफी के नाम पर किसानों के साथ हुई धोखाधड़ी, दम तोड़ती इकोनोमी समेत कई ऐसे विषय हैं जहां विपक्ष सत्ताधारी पार्टी को घेर सकती है लेकिन विपक्ष अपना रोल सही तरीके से अदा नहीं कर पा रहा है। अपनी नाकामियों की वजह से इस समय महाराष्ट्र में समूचा विपक्ष अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ता नजर आ रहा है।

सत्तारूढ़  बीजेपी-शिवसेना विपक्ष के विरोध को नाकाम करने में सफल हो रही हैं, वहीं शिवसेना और बीजेपी एक-एक कर विपक्ष के विधायकों और नेताओं को अपनी पार्टी में प्रवेश देकर विपक्ष खेमे को धीरे-धीरे कमजोर करने की रणनीति में भी जुटी है। प्रमुख पार्टियों एनसीपी और कांग्रेस ने 2014 की गलती को न दोहराते हुए गठबंधन तो कर लिया है लेकिन कौन किससीट लड़ेगा और सहयोगी को कैसे मनाया जाए पर फैसला होना बाकी है। हालांकि दोनों पार्टियां इसपर मंथन भी कर रही है। विपक्ष कह रहा है कि वो आक्रामक है लेकिन मीडिया का ध्यान किसी और मुद्दे पर है। सांगली और कोल्हापुर में आयी बाढ़ में फडणवीस सरकार फेल हुई, लेकिन विपक्ष इस मुद्दे को भी नहीं भुना पाया। जाहिर है विपक्ष के खत्म होते कॉन्फिडेंस को देखते हुए देवेंद्र फडणवीस ने कहा था की महाराष्ट्र का अगला विपक्ष का नेता वंचित बहुजन आघाडी का होगा।

(Image Credit: Google)

Tags :

NEXT STORY
Top