400 साल से श्राप झेल रहा है यह राजघराना, आज बजी शहनाई

नई दिल्ली (27 जून): एक ऐसी शाही शादी जिसका डंका पूरे देश में बज रहा है। मैसूर के राजा यदुवीर और राजस्थान की राजकुमारी तृषिका की शादी ऐतिहासिक अंबा विलास पैलेस में शादी संपन्न हुई। दो शाही परिवारों के इस मिलन को देखने के लिए देश-विदेश सैंकड़ों मेहमान मैसूर पैले में मौजूद थे।

जब शादी दो शाही परिवारों के बीच हुई है, उसके ठाठ-बाठ का अंदाज़ा बखूबी लगाया जा सकता है। रस्म-रिवाज हों या फिर गहने और पोशाक हर चीज़ में शानो-शौकत झलक रही थी। आन-बान और शान में ये दोनों परिवार एक दूसरे से कम नहीं है। मैसूर के राजा यदुवीर हज़ारों करोड़ के मालिका हैं तो तृषिका का घराना भी कम नहीं है। तृषिका के पिता रॉयल पैलेस और फाइव स्टार होटल के मालिक हैं। लग्जरी और विटेंज कारों का पूरा काफिला उनके पास है।

40 साल बाद मैसूर के वाडियार राजघराने में शादी हुई है। इस राजघराने को लेकर कई दिलचस्प कहानियां हैं। यदुवीर को दुनिया भले ही आज मैसूर के राजा के तौर जान रही है, लेकिन यदुवीर मैसूर के राजा स्वार्गीय श्रीकांतदत्त के पुत्र नहीं हैं बल्कि उन्हें गोद लिया गया था। मान्यता तो ये भी है कि वाडियार राजघराना एक श्राप से पीड़ित है। 400 साल से वाडियार राजघराना इस श्राप का दंश झेल रहा है।

देखें पूरी रिपोर्ट:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=BWQFMilGfOk[/embed]