बिसाहड़ा पंचायत ने राज्य सरकार को दी 20 दिन की मोहलत

नोएडा (6 जून): पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत बिसाहड़ा गांव के ग्रामीणों ने मंदिर परिसर में पंचायत की। इस पंचायत में फैसला लिया गया कि गौ हत्या के मामले में सरकार 20 दिन में अपनी जांच पूरी कर ले। अगर 20 दिनों में अखलाख के परिवार के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किया गया तो आंदोलन के लिए सरकार जिम्मेदार होगी।

पंचायत की अध्यक्षता कर रहे पूर्व प्रधान भाग सिंह ने कहा जब अखलाख की हत्या हुई तो उनके परिवार के साथ हम लोग खड़े थे। अब मथुरा लैब से फॉरेंसिक रिपोर्ट में साफ हो गया है कि उसने गौ हत्या की थी। उत्तर प्रदेश में यह जघन्य अपराध है। अब सरकार को उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हम सरकार को 20 दिनों का समय दे रहे हैं। अगर जांच करके अखलाख के परिवार पर मुकदमा दर्ज नहीं किया गया तो फिर जो होगा, उसके लिए सरकार जिम्मेदार होगी।

आपको बता दें कि फॉरेंसिक रिपोर्ट में बताया गया है कि जो मांस बरामद किया गया था वह गौवंश का था। हालांकि प्रदेश के मुखिया अखिलेश यादव साफ कर चुके हैं कि अखलाख के घर से कोई गौमांस बरामद नहीं हुआ है। सरकार की तरफ से कहा गया है कि जो मांस बरामद हुआ है, वह घर से नहीं बल्कि बाहर रखे किसी ट्रांसफार्मर के पास से बरामद हुआ था। लेकिन फॉरेंसिक रिपोर्ट आने के बाद बीजेपी से लेकर दूसरी विपक्षी पार्टियां राज्य सरकार को घेरने में लगी हुई है।