मधेसी मोर्चा ने जनहित में वापस लिया आंदोलन, लेकिन विरोध जारी

नई दिल्ली (9 फरवरी):  संयुक्त लोकतांत्रिक मधेसी मोर्चा ने भारत सीमा पर लगभग साढे चार महीने से चल रही नाके बंदी को उठा लिया है। नाकेबंदी समाप्त होते ही नेपाल में खुशी की लहर सी दौड़ गयी है। वहां के लोग अपनी दिनचर्या को फिर से सामान्य करते नजर आये। संयुक्त मधेसी मोर्चा ने एक विज्ञप्ति में कहा है कि नाकेबंदी उठा लेने का मतलब आंदोलन समाप्त करना नहीं है।

संयुक्त लोकतांत्रिक मधेसी मोर्चा ने कहा है कि संविधान की विसंगतियों के खिलाफ उनका विरोध जारी है और जारी रहेगा। उन्होंने यह भी कहा है कि आंदोलन की रूपरेखा में परिवर्तन किया जा रहा है। अब ऐसा आंदोलन होगा जिससे आम आदमी को कोई परेशानी न हो लेकिन सरकार के दांत खट्टे हो जायें। इसलिए समान विचारधारा वाले सभी लोगों से वार्ता और विचार विमर्श करके फिर से देश व्यापी आंदोलन शुरु किया जायेगा। नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने मधेसी मोर्चा के आंदोलन खत्म करने के कदम का स्वागत किया है। उन्होंने कहा है कि विसंगतियां कहीं भी हो सकती है, उन्हें बात-चीत के जरिए सुलझाना सबसे अच्छा रास्ता है।