काठमाण्डु में मधेसी और जनजातीय पार्टियों का सबसे बडा़ प्रदर्शन

नई दिल्ली (15 मई): नेपाली संविधान में व्याप्त विसंगतियों के खिलाफ मधेसी मोर्चा समर्थक और जनजाति पार्टियों के समूह ने काठमाण्डु में अब तक का सबसे बड़ा विरोध प्रदर्शन किया। सरकार विरोधी इस विरोध प्रदर्शन का मकसद सिंह दरबार का घेराव करना है। संघीय समाजवादी फोरम नेपाल के जनरल सेक्रेटरी राजेनद्र श्रेष्ठा ने कहा है कि प्रदर्शन का मकसद सरकार को तराई की समस्याओं से अवगत कराना और उसके अनुरूप संविधान में संशोधन कराना है।

दो महीने पहले स्थगित की गयी नाकेबंदी के बाद यह पहला मौका है जब मधेसी समर्थक और जनजातीय पार्टियों के संङ ने एक साथ इतना बड़ा प्रदर्शन किया है। आंदोलन को स्थगित करते वक्ता भी मधेसी मोर्चा के नेताओं ने कहा था कि अब सरहदों की नाकेबंदी के बजाए काठमाण्डु में सरकार की नाकेबंदी की जायेगी।