हाई कोर्ट से मिले झटके के बाद ममता बोलीं -मां सब देख रही हैं

नई दिल्ली(22 सितंबर): दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के पश्चिम बंगाल सरकार के फैसले को हाई कोर्ट की ओर से खारिज किए जाने के बाद सीएम ममता बनर्जी ने पहली बार बयान दिया है। उन्होंने कोर्ट के आदेश पर एक भी सीधी टिप्पणी नहीं की। हालांकि, उन्होंने कहा कि मूर्तियां कब विसर्जित करनी हैं, इस मामले में आखिरी फैसला लोगों का ही होगा। 

- उन्होंने कहा, 'लोकतंत्र में सबसे ऊपर जनता है। उनका फैसला सबसे बड़ा होता है।'

- 1 अक्टूबर को मुहर्रम के बाद मूर्ति विजर्सन के सरकारी फैसले के खिलाफ कोर्ट जाने वालों पर तंज कसते हुए सीएम ने कहा, 'मैं सुब्रत (सुब्रत मुखर्जी) से पूछना चाहूंगी कि क्या शनिवार या एकादशी को मूर्ति विसर्जन की प्रथा है?' 

- बता दें कि इस साल विजयदशमी शनिवार को है जबकि एकादशी मुहर्रम के दिन पड़ रही है। 

- ममता ने यह सवाल एकडालिया एवरग्रीन स्थित पूजा पंडाल का उद्घाटन करते हुए सीनियर कैबिनेट मंत्री मुखर्जी से किया।

-  मुखर्जी ने जब ममता के समर्थन में सिर हिलाया तो सीएम ने कहा, 'तो समस्या कहां है? कुछ लोग त्योहार को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। वे शांति भंग की कोशिश कर रहे हैं।' 

- ममता ने सीधे तौर पर उन लोगों को निशाने पर लिया जिन्होंने राज्य सरकार के फैसले के खिलाफ कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। हालांकि, ममता ने खुद को सिर्फ दलीलों तक सीमित नहीं किया।

-  उन्होंने जनभावनाओं का ध्यान रखते हुए बिना देखे चंडी पाठ किया। माना जा रहा है कि इसका मकसद दक्षिणपंथी संगठनों को यह दिखाना था कि वह किसी से कम हिंदू नहीं हैं। ममता को लगता है कि ऐसे संगठन बंगाली लोगों के दिमाग में उनकी 'मुस्लिम तुष्टिकरण' करने वाली की छवि बना रहे हैं। 

- उन्होंने कहा, 'अगर मैं मुस्लिमों के उत्सव में जाती हूं तो लोग इसे तुष्टिकरण कहते हैं। जब मैं छठ पूजा या बुद्ध पूर्णिमा में शामिल होती हूं तो कोई पूछता है कि मैं किसका तुष्टिकरण कर रही हूं? जब मैं मंदिरों में जाती हूं या क्रिसमस के वक्त मध्यरात्रि में कार्यक्रम में मौजूद रहती हूं तो क्या किसी ने मुझ पर तुष्टिकरण करने का आरोप लगाया?' 

- सीएम ने आगे कहा, 'मैं कुछ सिद्धांतों के साथ पली-बढ़ी हूं। मैं उन्हें बदल नहीं सकती, अगर लोग मेरी गर्दन भी काट दें और ऐसा करने के लिए कहें। मैं सांप्रदायिक सौहार्द के प्रति प्रतिबद्ध हूं और सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखना मेरी जिम्मेदारी है। अगर कोई त्योहारों के वक्त समस्या पैदा करेगा तो वे मेरे सबसे बड़े दुश्मन होंगे।'

- सीएम ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार बंगाल के खिलाफ साजिश रच रही है। उन्होंने कहा, 'केंद्र हमारे खिलाफ साजिश कर रहा है। इसके लिए वे विभिन्न एजेंसियों की वक्त-वक्त पर मदद लेते रहते हैं। लेकिन मुझे भगवान में भरोसा है। मुझे भरोसा है कि हम सभी साजिशों से निपटने में कामयाब होंगे।' ममता ने कहा, 'मुझे गहरा धक्का लगा है। जब ऐसा होता है तो मैं अपना दुख आम लोगों से बांटना चाहती हूं। मां (देवी दुर्गा) सब देख रही हैं।'