एमएस धोनी ने वनडे और T-20 की छोड़ी कप्तानी , कोहली होंगे नए कप्तान

नई दिल्ली ( 4 जनवरी ): 2007 में टी20 और 2011 में भारत को वर्ल्ड कप मैच जिताने वाले क्रिकेट खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी ने वनडे और टी20 टीम की कप्तानी छोड़ दी है। हालांकि, वह एक खिलाड़ी के तौर पर खेलते रहेंगे। धोनी टेस्ट क्रिकेट से पहले ही संन्यास ले चुके हैं। बीसीसीआई ने बुधवार रात ट्वीट करके यह जानकारी दी। 

हालांकि धोनी वनडे और टी-20 मैच खेलते रहेंगे। धोनी इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली वनडे और टी-20 मैचों में चयन के लिए भी उपलब्ध रहेंगे। आपको बता दें कि धोनी टेस्ट क्रिकेट से पहले ही संन्यास ले चुके हैं।  धोनी ने अचानक यह फैसला क्यों किया अभी स्पष्ट नहीं है, लेकिन समझा जा रहा है कि उन्होंने 2019 वर्ल्ड कप से पहले यह पद छोड़ दिया है ताकि नए कप्तान को पर्याप्त समय मिले। टेस्ट की तरह ही विराट कोहली को कप्तानी सौंपी जा सकती है।

 धोनी ने चयनकर्ताओं को बताया है कि वो इंग्लैंड के खिलाफ वन-डे और टी-20 मैचों की सीरीज़ के लिए उपलब्ध रहेंगे। इस बारे में बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी ने कहा 'हर भारतीय क्रिकेट फैन की तरफ से मैं एमएस धोनी को बतौर कप्तान क्रिकेट के सारे फॉर्मेट में उनके योगदान के लिए शुक्रिया अदा करता हूं। उनके नेतृत्व में भारतीय टीम ने नई बुलंदियों को छुआ, भारतीय क्रिकेट के स्वर्णिम इतिहास में उनका नाम हमेशा दर्ज हो गया है।झारखंड के रांची में जन्मे धोनी की कप्तानी में भारत ने 28 साल बाद क्रिकेट वर्ल्ड कप जीता। उन्हीं की कप्तानी में भारत ने 2007 आईसीसी वर्ल्ड 20-20, 2007-08 कॉमनवेल्थ बैंक सीरीज, 2007-2008 में सीबी सीरीज़ और बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी जैसे अहम मुकाबले जीते।धोनी ने 283 वन-डे मैचों में 50.89 की बेहतरीन औसत से 9110 रन बनाए, जिसमें 9 शतक और 61 अर्धशतक शामिल थे। 73 टी-20 मैचों में धोनी ने 1112 रन बनाए। धोनी को उनकी आक्रामक शैली और हैलिकॉप्टर शॉट्स जैसे नए स्ट्रोक को इजाद करने के लिए तो जाना ही जाएगा, बतौर कप्तान उनके शांत दिमाग की भी कमी टीम को खलेगी।