वो मरने के बाद भी पांच लोगों को दे गया नई जिंदगी, रिकॉर्ड समय में लिवर दिल्ली पहुंचा

नई दिल्ली (28 जुलाई): डायवर्जन और जाम के बीच ट्रैफिक पुलिस ने फिर इतिहास रच दिया। वहीं अपने अंग दान करने वाला युवक पांच लोगों को नया जीवन दे गया। 

- लखनऊ के केजीएमयू में एक ब्रेनडेड युवक के शरीर से निकाला गया लिवर रेकॉर्ड 101 मिनट में दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल पहुंचा दिया गया।  

- लिवर को केजीएमयू से अमौसी एअरपोर्ट पहुंचाने के लिए ट्रैफिक पुलिस ने ग्रीन कॉरिडोर बनाया है। 

- दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल भेजा गया लिवर गोरखपुर के कोटहा निवासी सुन्दर के ब्रेनडेड शरीर से लिया गया। 

- सुंदर के बड़े भाई धर्मेंद्र ने बताया कि 24 जुलाई की शाम बाइक चलाते वक्त सुंदर का एक्सिडेंट हो गया था।

-25 जुलाई की सुबह चार बजे उसे केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती करवाया, लेकिन डॉक्टरों ने ब्रेनडेड घोषित कर दिया। 

उसी दिन केजीएमयू की ट्रांसप्लांट यूनिट के कोऑर्डिनेटर ने सुंदर के घरवालों ने ऑर्गेन डोनेशेन के लिए बात की और उनकी सहमति से लिवर, किडनी और आंखें को सुरक्षित कर लिया गया। 

- सुंदर खुद तो इस दुनिया से चला गया लेकिन वो 5 लोगों को मिलेगी नई जिंदगी दे गया।  सुंदर मरते-मरते पांच लोगों को नई जिंदगी दे गया।