Blog single photo

कमलेश तिवारी के हत्यारे सीसीटीवी में कैद, मिठाई के डिब्बे में लाए थे चाकू

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के नाका इलाके में हिन्दू महासभा के पूर्व अध्यक्ष रहे कमलेश तिवारी की हत्या हो गई है। नाका थानाक्षेत्र के खुर्शेदबाग कॉलोनी स्थित उनके कार्यालय में गिफ्ट देने के बहाने घुसे और गोली मारकर भाग निकले।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 अक्टूबर): उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के नाका इलाके में हिन्दू महासभा  के पूर्व अध्यक्ष रहे कमलेश तिवारी की हत्या हो गई है। नाका थानाक्षेत्र के खुर्शेदबाग कॉलोनी स्थित उनके कार्यालय में गिफ्ट देने के बहाने घुसे और गोली मारकर भाग निकले। गोली की आवाज से अफरा-तफरी मच गई। घटना में गंभीर रूप से जख्मी कमलेश तिवारी को आननफानन में हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। वहीं, पुलिस सीसीटीवी कैमरों को आधार बनाकर हमलावारों की तलाश में लगी है। 

बता दें, हिंदू महासभा के नेता कमलेश तिवारी की पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित बयान देने के मामले में गिरफ्तारी हुई थी। वह जमातन पर रिहा चल रहे थे। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने अभी हालही में इपनर लगी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून(रासुका) को हटाई थी। 

जानकारी के अनुसार, कमलेश तिवारी से नाका के खुर्शीद बाग स्थित ऑफिस में दो लोग मिलने आए थे। ये दोनों मिठाई का डिब्बा लिए हुए थे जिसमें चाकू और असलहा था। बताया जा रहा है कि दोनों ने कमलेश तिवारी से मुलाकात की। बातचीत के दौरान दोनों बदमाशों ने कमलेश के साथ चाय भी पी। इसके बाद उनका गला रेता गया और फिर गोली मारकर बदमाश फरार हो गए।

संदिग्ध कातिल सीसीटीवी में कैद

कमलेश तिवारी हत्याकांड में पुलिस को अहम सुराग मिला है। वारदात को अंजाम देने वाले संदिग्ध कातिल सीसीटीवी फुटेज में कैद हुए हैं। हुलिए के आधार पर आरोपियों की तलाश में जुटी पुलिस जल्द ही इस मामले में खुलासे का दावा कर रही है। एसएसपी कलानिधि नैथानी के निर्देश पर पुलिस की कई टीमें आरोपियों की सरगर्मी से तलाश में जुट गई हैं। 

कमलेश पर लग चुका है रासुका

पैगंबर साहब पर टिप्पणी की वजह से कमलेश पर रासुका भी लग चुका है। उस समय एक मुस्लिम संगठन ने सर कलम करने का फतवा भी जारी किया था। बिजनौर के उलेमा अनवारुल हक और मुफ्ती नईम कासमी पर कमलेश तिवारी का सिर कलम करने का फतवा जारी करने का आरोप लगा था।

Tags :

NEXT STORY
Top