उन्नाव गैंगरेप मामलाः पीड़ित पक्ष का नार्को टेस्ट कराने से इंकार, विधायक तैयार

नई दिल्ली (14 अप्रैल): न्नाव के बांगरमऊ से भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली किशोरी अपने परिवार के सदस्यों के साथ लखनऊ में सीबीआई के आफिस आ गई है। सीबीआई की टीम उसका मेडिकल कराने लखनऊ के लोहिया अस्पताल गई। सीबीआई टीम के साथ भारी पुलिस बल मौजूद है।  

इस बीच पीड़ित पक्ष ने नार्को टेस्ट कराने से इंकार कर दिया है, वहीं आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर नार्को टेस्ट कराने के लिए तैयार हो गए हैं। पीडि़ता ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने इस घटना को संज्ञान में लिया है। हमें उम्मीद है कि अब हमें न्याय जरुर मिलेगा। इससे पहले लखनऊ रवाना होने से पहले पीडि़ता के चाचा ने कहा कि वह आरोपी विधायक की गिरफ्तारी से खुश हैं। साथ ही उन्होंने सीबीआई और मीडिया का शुक्रिया अदा किया। पीडि़ता के चाचा ने बड़ा आरोप लगाया कि पूरा उन्नाव प्रशासन आरोपी विधायक को बचाने में लगा हुआ था।

विधायक सेंगर के बारे में पीड़िता ने कहा, '4 जून को उसने (सेंगर ने) जो किया उसके बाद मेरे पापा और मैं डर की वजह से दिल्ली में रहने को मजबूर हो गए थे। उन्होंने माखी आने का फैसला किया क्योंकि मेरे पांच साल के भाई को एक साइकल चाहिए थी।' उसने कहा, '3 अप्रैल को जब मेरे पिता को मारा-पीटा गया तो विधायक ने मेरे चाचा से कहा कि मैंने उसे प्रसाद दे दिया पब्लिक में बोलने का।'