आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे में करोड़ों का घोटाला, योगी सरकार वापस ले रही मुआवजा

नई दिल्ली (26 अगस्त): उत्तर प्रदेश की सपा सरकार  के ड्रीम प्रोजेक्ट आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे के लिए जमीन अधिग्रहण के बदले किसानों को दी गई ज्यादा रकम की वसूली शुरू कर दी गई है। 162 किसानों से चार करोड़ 39 लाख रुपए रिकवरी करने के लिए आरसी जारी कर दी गई है। तहसील स्तर से वसूली होने लगी है। सभी किसान भीटी हवेली और अरौल गांव के हैं। हाईवे बिल्हौर से गुजरता है।

निर्माण के दौरान अरौल, भीटी हवेली, रौगांव, गूंजेपुर, मकनपुर, इलियासपुर, बहरामपुर, बरंडा और काटीकुई गांव की जमीन शासन ने अधिगृहीत की थी। भीटी हवेली और अरौल के 162 किसानों से जल्दबाजी में जगह लेने के चलते उनको निर्धारित रकम से दोगुना भुगतान किया गया। यहां पर किसानों ने राजमार्ग और लिंक रोड पर जगह देने से मना कर दिया था। भाजपा की सरकार आई तो इसकी जांच कराई गई। इसमें दो गांव के लोगों को निर्धारित रकम से दोगुना भुगतना किया गया था। एडीएम भू-अध्याप्ति समीर वर्मा ने बताया कि दो गांवों के 162 किसानों से 4.39 करोड़ रुपए की रिकवरी शुरू हो गई है। उस वक्त जमीन का पैसा यूपीडा की अनुमति लेकर ही वितरित किया गया था।