जानें क्यों चढ़ाया जाता है हनुमान जी की मूर्ति को सिंदूर

नई दिल्ली (31 मार्च): मंगलकारी रामभक्त हनुमान, जिनके जप के प्रभाव से बड़ी से बड़ी मुसीबत टल जाती है। रामायण काल से लेकर महाभारत काल तक हनुमान की कई गाथाए हैं, जिसमें छुपे हैं अनगिनत राज़। आखिर हनुमान का जन्म कैसे हुआ ? क्या कभी हनुमान ने विवाह किया था ? क्या कलयुग मे भी जीवित हैं महावीर हनुमान ? आज हम आपको न्यूज 24 पर उन सभी रहस्य के बारे बताएंगे, जो भगवान हनुमान से जुड़े हैं।

बजरंग बली को सिन्दूर क्यों बहुत पसंद है। आखिर हनुमान की मूर्ति पर लिपे लाल सिंदूर का क्या रहस्य है।

क्यों चढ़ता है हनुमानजी को सिन्दूर:

कहते हैं कि एक दिन भगवान हनुमानजी सीताजी के कक्ष में पहुंचे। उन्होंने देखा कि लाल रंग की कोई चीज मांग में सजा रही है। हनुमानजी ने माता सीता से लाल सिदूंर मांग में सजाने की वजह पूछी तो माता ने कहा कि इसे लगाने से प्रभु राम की आयु बढ़ती है और प्रभु का स्नेह प्राप्त होता है।

तब हनुमानजी ने सोचा जब माता इतना-सा सिन्दूर लगाकर प्रभु का इतना स्नेह प्राप्त कर रही है तो अगर मैं इनसे ज्यादा लगाऊं तो मुझे प्रभु का स्नेह, प्यार और ज्यादा प्राप्त होगा व प्रभु की आयु भी लंबी होगी। ये सोचकर उन्होंने अपने सारे शरीर में सिन्दूर का लेप लगा लिया।

हनुमान जी ने अपने पूरे शरीर में सिंदूर का लेप लगाकर प्रभु राम के प्रति अपना स्नेह व्यक्त किया। कहते हैं इस प्रसंग के बाद से हनुमान जी ने अपने शऱीर पर सिंदूर का लेप लगाना शुरू कर दिया और सदियों से उनके भक्त भी उन्हें सिंदूर का लेप लगाते आ रहे हैं।