आज भी यहां निवास करते हैं भगवान हनुमान

नई दिल्ली (31 मार्च): मंगलकारी रामभक्त हनुमान, जिनके जप के प्रभाव से बड़ी से बड़ी मुसीबत टल जाती है। रामायण काल से लेकर महाभारत काल तक हनुमान की कई गाथाए हैं, जिसमें छुपे हैं अनगिनत राज़। आखिर हनुमान का जन्म कैसे हुआ ? क्या कभी हनुमान ने विवाह किया था ? क्या कलयुग मे भी जीवित हैं महावीर हनुमान ? आज हम आपको न्यूज 24 पर उन सभी रहस्य के बारे बताएंगे, जो भगवान हनुमान से जुड़े हैं।

मान्यता है हनुमानजी कलियुग में गंधमादन पर्वत पर निवास करते हैं, इसका जिक्र श्रीमद् भागवत में है। अपने अज्ञातवास के समय पांडव गंधमादन पर्वत के पास पहुंचे थे। एक बार भीम सहस्रदल कमल लेने के लिए गंधमादन पर्वत के वन में पहुंच गए थे, जहां उन्होंने हनुमान को लेटे देखा और फिर हनुमान ने भीम का घमंड चूर कर दिया था।

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार माना जाता है कि यहां के विशालकाय पर्वतमाला और वन क्षेत्र में देवता रमण करते हैं। पर्वतों में श्रेष्ठ इस पर्वत पर कश्यप ऋषि ने भी तपस्या की थी। हिमालय के कैलाश पर्वत के उत्तर में स्थित है गंधमादन पर्वत जो अपने सुगंधित वनों के लिए प्रसिद्ध है।

कहते हैं महाभारत काल में अर्जुन ने असम के एक तीर्थ में जब हनुमानजी से भेंट की थी, तो हनुमानजी भूटान या अरुणाचल के रास्ते ही गंधमादन पर्वत से असम में आए होंगे।