पाकिस्तानी मूल के आतंकी के निशाने पर था विंबलडन चैम्पियनशिप!

नई दिल्ली (11 जून ): लंदन ब्रिज हमले का मास्टरमाइंड खुर्रम बट उस सिक्योरिटी फर्म में नौकरी हासिल करना चाहता था जो विम्बलडन और दूसरे खेल आयोजनों के लिए सहायक मुहैया कराती है। बट के इस प्रयास के बाद यह अंदेशा जताया जा रहा है कि लंदन हमले के मास्टरमाइंड के निशाने पर यह प्रतिष्ठित टूर्नामेंट भी था।मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सुरक्षा सेवा एवं आतंकवाद रोधी पुलिस अब 27 साल के बट्ट के मंसूबे के बारे में पता लगाने की जांच कर रही है। बट्ट सुरक्षा कंपनी में नौकरी क्यों हासिल करना चाहता था, इस बात पर भी गौर की जा रही है। रिपोर्ट में कहा कि बट्ट को इस कंपनी में नौकरी के लिए इंटरव्यू देना था। यह इंटरव्यू इस महीने के आखिर में होना था।इस बात की भी आशंका है कि बट्ट ने टेनिस टूर्नामेंट को निशाना बनाने के बारे में सोचा होगा, लेकिन मैनचेस्टर एरिना विस्फोट के बाद उसने साजिश को तेजी से अंजाम देने का फैसला किया। इसके कारण लंदन में ब्रिज पर हमला हुआ। बट्ट ने लंदन अंडरग्राउंड के साथ छह महीने काम किया था। इसके बाद पिछले साल अक्तूबर में नौकरी छोड़ दी थी।खुर्रम बट्ट पहले से एमआई-5 और आतंकवाद रोधी पुलिस की निचले स्तर की जांच के घेरे में था। लंदन ब्रिज हमले का मास्टरमाइंड खुर्रम बट उस सिक्योरिटी फर्म में नौकरी हासिल करना चाहता था जो विम्बलडन और दूसरे खेल आयोजनों के लिए सहायक मुहैया कराती है। बट के इस प्रयास के बाद यह अंदेशा जताया जा रहा है कि लंदन हमले के मास्टरमाइंड के निशाने पर यह प्रतिष्ठित टूर्नामेंट भी था।मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सुरक्षा सेवा एवं आतंकवाद रोधी पुलिस अब 27 साल के बट्ट के मंसूबे के बारे में पता लगाने की जांच कर रही है। बट्ट सुरक्षा कंपनी में नौकरी क्यों हासिल करना चाहता था, इस बात पर भी गौर की जा रही है। रिपोर्ट में कहा कि बट्ट को इस कंपनी में नौकरी के लिए इंटरव्यू देना था। यह इंटरव्यू इस महीने के आखिर में होना था।इस बात की भी आशंका है कि बट्ट ने टेनिस टूर्नामेंट को निशाना बनाने के बारे में सोचा होगा, लेकिन मैनचेस्टर एरिना विस्फोट के बाद उसने साजिश को तेजी से अंजाम देने का फैसला किया। इसके कारण लंदन में ब्रिज पर हमला हुआ। बट्ट ने लंदन अंडरग्राउंड के साथ छह महीने काम किया था। इसके बाद पिछले साल अक्तूबर में नौकरी छोड़ दी थी। खुर्रम बट्ट पहले से एमआई-5 और आतंकवाद रोधी पुलिस की निचले स्तर की जांच के घेरे में था।