लंदन संसद अटैकः हमलावर सऊदी अरब गया था अंग्रेजी पढ़ाने, आतंकी बनकर लौटा !

नई दिल्ली (25 दिसंबर): लंदन में  संसद के बाहर आतंकी हमला करने वाला ख़ालिद मसूद चार साल तक सऊदी अरब के जेद्दाह में अंग्रेजी का शिक्षक रह चुका था। समझा जा रहा है कि इसी दौरान वो आतंकियों के संपर्क में आया और कट्टरपंथी हो गया। ब्रिटिश अखबार द सन ने इस बारे में विस्तार से रिपोर्ट प्रकाशित की है।  रिपोर्ट के मुताबिक ख़ालिद मसूद को 1983 में में पहली बार एक मामले में सज़ा सुनाई गई थी। उस वक्त उसकी उम्र 19 साल थी। 


इसके बाद सन् 2003 तक मुक़दमे दर्ज किए जा चुके थे, लेकिन 2005 में इंग्लिश भाषा की टीचिंग का सर्टिफ़िकेट लेकर वो सऊदी अरब के जेद्दाह शहर चला गया और वहां उसने इंग्लिश पढ़ानी शुरू कर दी।2009 में ब्रिटेन वापस लौटने के 5 महीने बाद, उसने ल्यूटन के टीइएफ़एल कॉलेज में इंग्लिश टीचर के रूप में काम करना शुरू कर दिया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़, मसूद एक बार बिट्रेन की ख़ुफ़िया एजेंसी के राडार पर आ गया था, लेकिन उसे ब्रिटेन के लिए ख़तरा नहीं समझा गया और पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया गया था।