आचार संहिता उल्लंघन मामले में मोदी और अमित शाह को क्लीन चिट के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

प्रभाकर मिश्रा, न्यूज 24, नई दिल्ली (8 मई ): चुनाव आचार संहिता उल्लंघन मामले में प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अमित शाह को क्लीन चिट के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हो सकती है। कांग्रेस नेता सुष्मिता देव ने चुनाव आयोग पर पक्षपात का आरोप लगाया है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव से कहा कि आचार संहिता उल्लंघन की शिकायतों पर प्रधानमंत्री और भाजपा अध्यक्ष को क्लीनचिट देने संबंधी चुनाव आयोग के आदेश रिकॉर्ड पर लाएं। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई और दीपक गुप्ता की पीठ ने देव की याचिका 8 मई के लिए सूचीबद्ध कर दी।

सुष्मिता देव की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता एएम सिंघवी ने आरोप लगाया कि चुनाव आयोग ने आचार संहिता के उल्लंघन के बारे में कांग्रेस पार्टी की शिकायतों को विस्तृत आदेश के बगैर ही खारिज कर दिया है। पीठ ने कांग्रेस सांसद से कहा कि वह बीजेपी के इन दो प्रमुख नेताओं द्वारा आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतों पर निर्वाचन आयोग के आदेशों को एक अतिरिक्त हलफनामे के साथ रिकार्ड पर लाएं। आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके लातुर और वर्धा के भाषणों के लिए क्लीनचिट दी थी। लातूर में मोदी ने पहली बार मतदान करने वाले युवाओं से बालाकोट एयर स्ट्राइक के हीरो और पुलवामा हमले में मारे गए जवानों को मत समर्पित करने का अनुरोध किया था, जबकि वर्धा में एक अप्रैल को उन्होंने संकेत दिया था कि वायनाड संसदीय क्षेत्र में अल्पसंख्यक समुदाय के अधिक वोट हैं।

वहीं प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह पर कथित चुनावी कानून उल्‍लंघन को लेकर दाखिल गई गई अपनी याचिका में कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया। इस हलफनामे में कांग्रेस सांसद ने कहा कि प्रतिवादी निर्वाचन आयोग यह बता पाने में विफल रहा है कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह द्वारा द्वारा दी गई कथित हेट स्‍पीच रिप्रजेंटेशन ऑफ पीपुल एक्‍ट-1951 की धारा-123A के तहत 'भ्रष्ट आचरण' हैं।  याचिका के जरिए सुष्मिता देव की ओर से आरोप लगाया गया था कि दोनों भाजपा नेताओं ने कई बार आचार संहिता का उल्लंघन किया है। चुनाव आयोग ने कांग्रेस की ओर से इस बारे में 40 शिकायतें दी गई थीं। याचिका में यह भी आरोप लगाया गया है कि चुनाव आयोग द्वारा स्पष्ट रूप से मना किए जाने के बावजूद दोनों नेताओं ने नफरत फैलाने वाले भाषण दिए और राजनीतिक प्रचार के लिए सेना का इस्तेमाल किया। याचिका में आचार संहिता उल्लंघन के उदाहरण भी दिए गए हैं।

असम के सिलचर से मौजूदा कांग्रेस सांसद देव ने अपनी याचिका में कहा था कि निर्वाचन आयोग ने प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्‍लंघन को लेकर दाखिल की गई शिकायतों को खारिज कर दिया है। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने सुष्मिता देव से पीएम मोदी और अमित शाह को क्‍लीन चिट देने संबंधी निर्वाचन आयोग के कथित फैसलों को रिकार्ड में देने के लिए कहा था। सुप्रीम कोर्ट में आज इस मामले की एकबार फिर सुनवाई हो सकती है।