गोडसे पर साध्वी प्रज्ञा के नोटिस पर अबतक नहीं आई रिपोर्ट, कांग्रेस ने बताया दिखावा

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (29 मई): 17वीं लोकसभा चुनाव का चुनावी शोर खत्म हो गया है। इस चुनाव में बीजेपी और उसके गठबंधन एनडीए को प्रचंड बहुमत से जीत मिली है। इस जीत के बाद कल यानी 30 मई को नरेंद्र मोदी लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं। इस चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा भी भोपाल सीट से चुनाव जीतने में कामयाब रही है। हालांकि महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त वाला बयान उनका और बीजेपी का पीछा छोड़ता नहीं दिख रहा है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साध्वी को मिले नोटिस का जवाब देने की 10 दिन की मियाद 27 मई को खत्म हो गई। अब प्रदेश बीजेपी पूरे मामले में गोलमोल जवाब दे रही है तो कांग्रेस का आरोप है कि ये सब कुछ सिर्फ एक दिखावा है।

आपको बता 16 मई को साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहकर ना सिर्फ विवाद खड़ा किया बल्कि बीजेपी को भी मुश्किल में डाल दिया था।  लोकसभा चुनाव में अंतिम चरण का मतदान बचा था ऐसे में बयान से नाराज पीएम मोदी ने ये तक कह दिया था कि वो साध्वी प्रज्ञा को कभी मन से माफ नहीं कर पाएंगे जिसके बाद साध्वी प्रज्ञा ने अपने बयान पर माफी मांग ली थी, हालांकि माफी काम ना आई और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मामला अनुशासन समिति को भेज दिया। लेकिन 10 दिन बीत जाने के बाद भी अनुशासन समिति की रिपोर्ट नहीं आई तो कांग्रेस ने सवाल खड़े कर दिए हैं।  

कमलनाथ सरकार में मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कि बीजेपी सिर्फ दिखावा कर रही थी। अमित शाह ने जनता के बीच कोई गलत संदेश ना जाए इसलिए सिर्फ औपचारिकता की और अब चुनाव खत्म हो गए तो साध्वी के बयान पर पर्दा डाल दिया। वहीं मध्य प्रदेश बीजेपी के प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय का कहना है कि सारी बातें पार्टी के अनुशासन समिति के सामने है, अनुशासन समिति जब भी फैसला देगी हम उसको सार्वजनिक करेंगे। उन्हें 10 दिनों में जवाब देना था अब उन्होंने क्या जवाब दिया है वो तो अनुशासन समिति की रिपोर्ट आने पर ही साफ हो पाएगा।