...तो इस वजह से PM मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं शामिल हुए शरद पवार

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (31 मई): प्रचंड जीत के बाद गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रिमंडल ने में गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में पद और गोपनियता की शपथ ली। इस शपथ ग्रहण समारोह में देश और दुनियाभर से तकरीबन 8000 मेहमानों ने हिस्सा लिया। इनमें यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत विपक्षी दलों के तमाम बड़े और वरिष्ठ नेता भी शामिल रहे। लेकिन एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार को प्रधानमंत्री मोदी और उनके मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं देखा गया। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री के दफ्तर से शरद पवार को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए न्यौता भी भेजा गया था, लेकिन वो इस समारोह में नहीं पहुंचे।

बताया जा रहा है कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण कार्यक्रम में ‘तय प्रोटोकॉल’ के अनुरूप सीट नहीं मिलने के कारण शामिल नहीं हुए। यह जानकारी गुरुवार को पवार की पार्टी ने दी। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता नवाब मलिक ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि 78 वर्षीय पवार वरिष्ठ राष्ट्रीय नेता हैं और वह मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री के रूप में कार्य कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि पवार के कार्यालय कर्मियों ने पाया कि पवार को बैठने के लिए जो सीट दी गई है वह प्रोटोकॉल के अनुसार नहीं है। इसलिए वह कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए। वहीं, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री पवार को पांचवीं पंक्ति में सीट दी गई थी।

नरेंद्र मोदी  ने गुरुवार को ऐतिहासिक जीत के बाद लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पीएम मोदी  को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. नई सरकार में पीएम मोदी सहित 25 कैबिनेट मंत्री, 9 राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार और 24 राज्य मंत्रियों ने शपथ ली। गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में प्रचंड जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने दूसरे कार्यकाल के लिए शपथ लेने से पहले अपनी मंत्रिपरिषद को व्यवस्थित रूप देने के लिए BJP अध्यक्ष अमित शाह  के साथ कई दौर की वार्ता की। पीएम मोदी के कैबिनेट में इस बार अनुभव के साथ ही युवा शक्ति पर भी जोर दिया गया है। पीएम मोदी और अमित शाह की बैठक के बाद संभावित मंत्रियों को फोन करके पीएम मोदी से मिलने के लिए बुलाया गया था।