कर्जमाफी पर सियासत: शिवराज बोले- मेरे परिवार के किसी सदस्य का कर्जा माफ नहीं हुआ

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (9 मई): मध्यप्रदेश में कर्जमाफी को लेकर सियासत गरमाई हुई है। इस मुद्दे पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार परपलटवार किया है। शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मेरे परिवार ने जब आवेदन ही नहीं किया तो कर्जमाफ क्यों कर दिया। शिवराज सिंह  ने आरोप लगाया कि राज्य की कांग्रेस की कर्ज माफी झूठी है और कमलनाथ सरकार किसानों को मूर्ख समझते हैं, जब तक बैंक किसानों को कर्ज माफी का प्रमाण पत्र नहीं देता तब तक कर्ज माफी नहीं मानी जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि कल राहुल गांधी सूची दिखा रहे थे कि मेरे भाई रोहित चौहान का कर्जा माफ हुआ है , मैंने हकीकत पता कि तो पता चला की मेरे भाई ने कर्ज माफी का आवेदन ही नहीं भरा था, फिर कमलनाथ जी आप मुझपर इतनी कृपा क्यों करते हो। इस सिलसिले में शिवराज सिंह ने ग्राम पंचायत के रजिस्टर की कॉपी प्रमाण के रूप में दी, जिसमें लिखा है कि रोहित चौहान ने कर्ज माफी का आवेदन ही नहीं किया है।

साथ ही शिवराज सिंह ने कहा कि एमपी कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव से पहले वचन पत्र में सभी किसानों का कर्ज माफ करने की बात कही थी, किसानों का कर्ज माफ नही किया उल्टा मुझे आई ड्रॉप भेजी, बादाम और च्यवनप्राश भेजा, ताकि मैं देख सकूं कि कितने किसानों का क़र्ज़ माफ हुआ है। शिवराज सिंह ने कहा, कल कांग्रेस ने मेरे घर बाबा रामदेव का च्यवनप्राश भेजा है इसका मतलब कांग्रेस की पूरी श्रद्धा बाबा रामदेव के साथ है, कॉन्फ्रेंस में शिवराज सिंह च्यवनप्राश लेकर पहुंचे। शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि, "किसान कर्ज माफी प्रदेश की कांग्रेस सरकार का झूठ है, एमपी के किसानों को मूर्ख समझते हैं, जब तक बैंक किसानों को कर्ज माफी का प्रमाण पत्र नहीं देता, तब तक कर्ज माफी नहीं मानी जाएगी।"

आपको बता दें कि बुधवार को राहुल गांधी ने भिंड, मुरैना और ग्वालियर की जनसभाओं में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को आड़े हाथों लेते हुए कहा था कि, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुझे ये बताया है कि मध्य प्रदेश में किसानों का कर्जा माफ हुआ है, उसमें शिवराज सिंह चौहान के भाई रोहित सिंह और उनके चाचा के लड़के भी शामिल हैं। गौरतलब है कि मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार लगातार ये दावा कर रही है कि उसने अब तक 21 लाख किसानों का दो लाख रुपए तक का कर्जा माफ कर दिया है। जबकि शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी कमलनाथ सरकार के इस दावे को झूठा बता रही है।