EVM से लोगों का डगमगाया विश्वास, पारदर्शिता बनाए रखने के लिए कदम उठाए EC- कांग्रेस

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 मई): सभी एग्जिट पोल्स में एनडीए को पूर्ण बहुमत की भविष्यवाणी के बाद विपक्षी दलों हलचल तेज हो गई। एग्जिट पोल्स के दावे को खारिज करते हुए विपक्षी पार्टियों ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों यानी EVM और वीवीपैट को लेकर अपनी मांगे तेज कर दी है। विपक्षी दलों ने ईवीएम से छेड़छाड़ की आशंका जताते हुए  ईवीएम को वीवीपैट की पर्चियों से बड़े पैमाने पर मिलान की मांग तेज कर दी है। कांग्रेस ने मतगणना की प्रक्रिया में कई समस्याओं का जिक्र करते हुए चुनाव आयोग से इस संबंध में विपक्षी की चिंताओं को दूर करने की मांग की है।  पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला का कहना है EVM और वीवीपैट को लेकर चुनाव आयोग को विपक्षी दलों की चिंताओं को दूर करना चाहिए। उन्होंने कहा कि EVM से लोगों का विश्वास डगमगाया गया है। लिहाजा चुनाव आयोग को EVM पर लोगों के संदेह को दूर करना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि EVM पर विश्वास बहाली और पारदर्शिता बनाए रखने के लिए चुनाव आयोग को कदम उठाना चाहिए। साथ ही राजीव शुक्ला ने 17वीं लोकसभा चुनाव को लेकर तमाम चैनल्स के एग्जिट पोल्स को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि एग्जिल पोल लोगों के लिए मनोरंजन का साधन बन गया है।

हालांकि इस मुद्दे पर विपक्षी दलों को आज दोहरा झटका लगा है। वीवीपैट के ईवीएम से 100 फीसदी मिलान की मांग वाली याचिका को ही सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। यही नहीं शीर्ष अदालत ने याचियों को फटकार लगाते हुए कहा कि ऐसी अर्जियों को बार-बार नहीं सुना जा सकता। यही नहीं चुनाव आयोग ने यूपी के 4 मामलों में विपक्ष की आशंकाओं को खारिज करते हुए कहा है कि ईवीएम सेफ है और वे विश्वास बनाए रखें।

इस बीच विपक्ष पार्टियां आज ईवीएम को लेकर बैठक करने वाला है। विपक्षी दलों ने साथ मिलकर चुनाव आयोग से ईवीएम की शिकायत करने का भी फैसला लिया है। आपको बता दें कि 19 मई को हुए आखिरी चरण के मतदान के बाद से ही विपक्ष ने ईवीएम की सुरक्षा पर सवाल खड़े किए हैं। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की अगुवाई में आज करीब 22 विपक्षी दल चुनाव आयोग से भी इस मसले पर ही मुलाकात कर सकते हैं। विपक्ष लगातार मांग करता रहा है कि वोटों की गिनती में वीवीपैट की 50 फीसदी पर्चियों का मिलान होना चाहिए।