आप से गठबंधन को लेकर दो धड़े में बंटा कांग्रेस, राहुल गांधी जल्द लेंगे अंतिम फैसला !

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 मार्च): लोकसभा चुनाव 2019 की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है। 11 अप्रैल को होने वाले पहले चरण के लिए आज से नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। लेकिन कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन को लेकर दोनों पार्टियों के बीच अबतक अंतिम फैसला नहीं हो सका है। कांग्रेस में आम आदमी पार्टी से गठबंधन को लेकर अबतक उवापोह की स्थिति बनी हुई है। आपको बता दें कि दिल्ली की सभी सातों सीटों पर 6 चरण के तहत 12 मई को वोटिंग होनी है।दिल्ली में आम आदमी पार्टी से गठबंधन को लेकर कांग्रेस दो खेमे में बंटा है। एक धड़ा जहां आम आदमी पार्टी से गठबंधन के पक्ष में है वहीं शीला दीक्षित समेत कई ऐसे नेता हैं जो आम आदमी पार्टी से गठबंधन के पक्ष में नहीं है। अब इस मामले पर अंतिम फैसला पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को लेना है।  दिल्ली कांग्रेस के प्रभारी और वरिष्ठ पार्टी नेता पीसी चाको ने लोकसभा चुनाव के लिए दोनों दलों के  बीच गठबंधन को जरूरी बता रहे हैं। पीसी चाको की माने तो दिल्ली कांग्रेस के अधिकतर नेता आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन चाहते हैं। गौरतलब है कि दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्षा और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित पहले ही कई बार बयान दे चुकी हैं कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं होगा। हालांकि शीला दीक्षित से पहले प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन ने आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन की वकालत की थी।वहीं आम आदमी पार्टी भी कांग्रेस के साथ गठबंधन के लिए लगातार प्रयास कर रही है, आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कई बार सार्वजनिक मंचों पर कह चुके हैं कि दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिए आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन जरूरी है। ऐसे में पीसी चाको का बयान आम आदमी पार्टी के लिए एक नई उम्मीद हो सकता है। पीसी चाको के इस बयान से शीला दीक्षित लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन के मुद्दे पर अकेली पड़ गई हैं क्योंकि केंद्रीय स्तर के कई वरिष्ठ नेता गठबंधन के पक्ष में अपनी राय व्यक्त कर चुके हैं लेकिन इस बारे में फैसला राहुल गांधी के स्तर पर होगा।