वीके सिंह समेत कई दिग्गजों के टिकट पक्के, रामपुर से जयाप्रदा को मिल सकता है बीजेपी का टिकट


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 मार्च): लोकसभा चुनाव के उम्मीदवारों को लेकर बीजेपी में मंथन जोरों पर है। आज बीजेपी उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी हो सकती है। सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक आज 200 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान हो सकता है। बताया जा रहा है कि इस लिस्ट में पार्टी ने कई केंद्रीय मंत्री समेत मौजूदा सांसदों के नाम शामिल हैं। पार्टी ने अपने तमाम बड़े नेताओं को टिकट देने का फैसला किया है। सूत्रों के मुताबिक गाजियाबाद से जनरल वी के सिंह, नोएडा से महेश शर्मा और मथुरा से हेमा मालिनी का एक बार फिर चुनाव लड़ना तय कर दिया गया है। रामपुर से जयाप्रदा को बीजेपी का टिकट मिल सकता है। वहीं  खबर है कि बीजेपी यूपी में करीब 18 वर्तमान सांसदों के टिकट काट सकती है। उत्तर प्रदेश में कुल 80 लोकसभा सीटें आती हैं। यूपी में सभी सीटों पर सात चरणों में चुनाव होंगे। सीईसी की बैठक में पहले और दूसरे फेज़ के लिए उत्तर प्रदेश के नाम पर मुहर लगी है। बिहार, पश्चिम बंगाल, राजस्थान और मध्य प्रदेश जैसे बड़े सूबों के लिए भी कैंडिडेट्स के नाम तय हो गए हैं।


बीजेपी के उम्मीदवारों की आज लिस्ट जारी हो सकती है। सूत्रों के मुताबिक देर रात तक चली बीजेपी केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद आज 200 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान हो सकता है। देर रात तक चले इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह भी मौजूद रहे। पार्टी केन्द्रीय मंत्रियों रविशंकर प्रसाद, आर के सिंह और गिरिराज सिंह को क्रमश: पटना साहिब, आरा और बेगूसराय सीटों से उतार सकती है। सूत्रों ने बताया कि पार्टी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में केन्द्रीय मंत्रियों वी के सिंह और सत्यपाल सिंह को उनकी सीटों पर फिर से उतार सकती है। इस बैठक में सबसे पहले उन चेहरों की सियासी ताकत और कमजोरी नापी गई जिन पर पार्टी लोकसभा चुनाव में दांव नहीं लगाना चाहती। पीएम मोदी का गढ़ और सीएम योगी का केसरिया किला उत्तर प्रदेश इस लिस्ट में सबसे ऊपर था। आपको बता दें बीजेपी केंद्रीय चुनाव समिति की यह तीसरी बैठक थी। इन बैठकों में भाजपा ने सात पूर्वोत्तर राज्यों, बिहार, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश एवं तेलंगाना में अपने उम्मीदवार लगभग तय कर लिए हैं। पार्टी इससे पहले आंध्रप्रदेश, अरुणाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिये उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर चुकी है।



सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक बीजेपी के कई सीनियर नेताओं ने केंद्रीय चुनाव समिति को अपने चुनाव नहीं लड़ने की बात कही है। जानाकरी के मुताबिक मुरली मनोहर जोशी ने खुद कानपुर से चुनाव न लड़ने की बात पार्टी को बता दी है। 85 साल के जोशी पहली बार 1977 में लोकसभा के लिए चुने गए, यानी उनकी उम्र काफी है और इसी वजह से वो बीजेपी के मार्गदर्शक मंडल में हैं। लालकृष्ण आडवाणी भी पार्टी से चुनाव नहीं लड़ने की गुजारिश। सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक आडवाणी के बेटे जयंत या बेटी प्रतिभा चुनाव लड़ सकती हैं। सेहत की वजह से सुषमा स्वराज चुनाव नहीं लड़ेगी। सुषमा स्वराज मध्यप्रदेश की विदिशा सीट से सांसद हैं। 84 साल के शांता कुमार ने भी चुनाव नहीं लड़ने की बात कही है। शांता कुमार हिमाचल के कांगड़ा से सांसद हैं। वहीं बीसी खंडूरी और भगत सिंह कोश्यारी भी चुनाव नहीं लड़ेंगे।



बीजेपी केंद्रीय चुनाव समिति बिहार, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ के बारे में व्यापक चर्चा कर चुकी है। सूत्रों की माने तो पार्टी ने अधिकतर केंद्रीय मंत्रियों को उनकी वर्तमान सीट से उम्मीदवार बनाने का सुझाव दिया है। मंगलवार को बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन ने कहा था कि पार्टी छत्तीसगढ़ में अपने 10 मौजूदा सांसदों को टिकट नहीं देगी। उन्होंने कहा कि केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में यह फैसला लिया गया। सूत्रों ने बताया कि गुजरात बीजेपी ने भी सभी 26 सीटों के लिए संभावित उम्मीदवारों के नाम केंद्रीय चुनाव समिति को भेज दिए हैं।



बिहार में भी चुनाव बेहद दिलचस्प होगा लेकिन सबसे दमदार मुकाबला पटना साहिब सीट पर होगा। पटना साहिब से शत्रुघ्न सिन्हा की जगह केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद बीजेपी उम्मीदवार होंगे। यही नहीं, बीजेपी बिहार में 2014 में 30 सीटों पर चुनाव लड़ी थी और 22 सीटों पर जीती थी लेकिन जेडीयू से गठबंधन की वजह से इस बार पार्टी सिर्फ 17 सीटों पर लड़ेगी। जाहिर है बीजेपी के पांच मौजूदा सांसदों का टिकट कटना तय है।