अब हाफिज भी नहीं बच पाएगा!

 

नई दिल्ली ( 30 अक्टूबर ) : अफगानिस्तान में लश्कर-ए-तैयब्बा के खिलाफ बड़ी कार्रवाई हुई है। इस कार्रवाई में उसके 19 आंतकवादी मारे गए हैं और 8 बुरी तरह से घायल हुए हैं। अफगानिस्तान के आंतरिक मामलों के मंत्रालय के मुताबिक पूर्वी कुनार प्रांत के दनगाम जिले में हवाई हमलों में लश्कर-ए-तैयबा के 19 आतंकवादी मारे गए और 8 घायल हुए हैं।

अब लश्कर-ए-तैयब्बा के खिलाफ बड़ी जंग छेड़ दी गई है जिसमें हाफिज सईद का बचना मुश्किल है। क्योंकि लश्कर-ए-तैयब्बा के खिलाफ भारत पहले से ही था।  अफगानिस्तान ने भी उसके खिलाफ जंग छेड़ दी है और अमेरिका भी उसके खिलाफ कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। 

अमेरिका ने पाक सरकार को फटकार लगाते हुए कह चुका है, वो मुंबई हमलों के गुनहगार को क्यों बचा रहा है। यूएस स्टेट डिपार्टमेंट के प्रवक्ता जॉन किरबी ने कहा कि अमेरिका की नजर में हाफिज सईद आतंकी है। अमेरिका चाहता है कि पाकिस्तान बहाना छोड़कर हाफिज और उसके संगठन लश्कर के खिलाफ कार्रवाई करे।

जॉन किरबी ने कुछ दिनों पहले कहा कि अमेरिका के लिए इस बात का कोई मतलब नहीं है कि हाफिज क्या कहता है। यूएस किसी आतंकी की धमकी से न तो डरता है न ही किसी तरह की प्रतिक्रिया देगा। अमेरिकी प्रशासन का स्पष्ट मत है कि हाफिज के खिलाफ कार्रवाई से ही ये साफ होगा कि पाक आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि अमेरिका ने पहले से ही हाफिज सईद को आतंकी और उसके संगठन लश्कर को काली सूची में डाल रखा है। यही नहीं सईद के सिर पर 10 मिलियन डॉलर का इनाम भी घोषित है।

अफगानिस्तान ने लश्कर-ए-तैयब्बा पर आईएस के जरिए अफागनिस्तान में हमले कराने का आरोप लगाया है। अफगानिस्तान भी लश्कर-ए-तैयब्बा और हाफिज पर बड़ी कार्रवाई चाहता है।   

इस बड़ी कार्रवाई से साफ हो गया है कि अफगानिस्तान ने भी लश्कर-ए-तैयब्बा के खिलाफ जंग छेड दी है।