आदमखोर बाघ के हमले में दो की मौत- प्रशासन ने दिये गोली मारने के आदेश

नई दिल्ली (13 फरवरी): राजस्थान के अलवर जिले में सरिस्का के आदमखोर बाघ ने एक ही दिन में दो लोगों को अपना शिकार बना डाला। बाघ के हमले से अबतक छह लोगों की जान जा चुकी है और एक गंभीर रूप से घायल हो  गया है। इंसानो पर बघेरे के बढ़ते हमलों से वन विभाग भी सकते में आ गया है। राजस्थान के मुख्य वन्य जीव प्रतिपालक जीवी रेडड्डी ने कहा कि क्षेत्र में जिस तरह से लगातार बाघ के हमले हो रहे हैं, यह बहुत ही गंभीर विषय है। हमने ग्रामिणो की सुरक्षा को देखते हुए बाघ को देखते ही गोली मारने के आदेश जारी किए हैं। 

हमले की पहली घटना सरिस्का बघेरे परियोजना के कोर एरिया में बसे जैतपुर ब्राह्मणन गांव में हुई जहां शांति देवी नाम की एक महिला को आदमखोर बघेरे ने अपना शिकार बनाया। इसी प्रकार दूसरी घटना सरिस्का वन क्षेत्र से सटे सिली बावड़ी गांव की है, जहां शाम करीब 5 बजे किसान रामकुमार मीणा (45) सहित दो  पर बघेरे ने हमला किया। जिसमें राजकुमार मीणा की मौके पर ही मौत हो गई और एक महिला गंभीर रूप से घायल है।

फिल्हाल वन विभाग यह पता लगाने की कोशिश कर रहा है कि यह कौनसा बाघ है जो लगातार इंसानों पर हमले कर रहा है। सूत्रों ने बताया कि बीते साल नवंबर में भी सरिस्का के एक आदमखोर बघेरे को वन विभाग ने पकड़ा था और कहा कि उसे कुंभलगढ़ में छोड़ दिया गया है लेकिन लोगों का कहना है कि वन विभाग ने सरिस्का में ही छोड़ा  था।