संगीतकार खय्याम ने दान दी जीवन भर की कमाई, 12 करोड़ रुपए ट्रस्ट के नाम

मुंबई (19 फरवरी) :  मोहम्मद ज़हूर खय्याम हाशमी यानि बॉलिवुड के लीजेंड संगीतकार। खय्याम साहब जिन्होंने गुरुवार को अपने जन्मदिन पर 90वें बरस में प्रवेश किया तो एक ऐसे फैसले का एलान किया जिसके लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा। खय्याम ने पत्नी जगजीत कौर के साथ अपने जीवन भर की कमाई, करीब 12 करोड़ रुपए, नवोदित प्रतिभाओं को निखारने और ज़रूरतमंद कलाकारों की मदद के लिए दान देने का एलान किया। इस रकम को केपीजे ट्रस्ट (खय्याम प्रदीप जगजीत ट्रस्ट) को दिया जाएगा। प्रदीप उनके बेटे का नाम है।   

चार दशक लंबे करियर में खय्याम ने हिंदी सिनेमा में एक से बढ़ कर एक संगीत दिया।

पंजाब में नवांशहर के राहों से मुंबई गए खय्याम की पत्नी जगजीत कौर भी जानी मानी सिंगर हैं। मुंबई में 89वां जन्मदिन मनाते हुए खय्याम बॉलीवुड को ये अनोखा रिटर्न गिफ्ट दिया। उन्होंने कहा- "फिल्म इंडस्ट्री और इस देश ने मुझे बहुत नाम और शोहरत दी। मेरे काम को सराहा और बेइंतहा प्यार भी दिया। आज मैं इसका शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। मेरे पास जीवन भर का कमाया जो कुछ है, मेरी पत्नी के जेवरात और हमारा घर भी, सबकुछ ट्रस्ट के नाम किया जा रहा है। तकरीबन 12 करोड़ की रकम ट्रस्ट को जाएगी। जिसका ब्याज अस्सी लाख रुपए बनेगा। इस पैसे से जरूरतमंद कलाकारों की मदद की जाएगी।"

ट्रस्ट के मुख्य ट्रस्टी गजल गायक तलत अजीज व उनकी पत्नी बीना होंगी। खय्याम ने करियर की शुरुआत 1947 में की थी। वो महान गायक के एल सहगल से प्रभावित होकर मुंबई आए थे। उन्हें सबसे पहले संगीतकार हुस्नलाल-भगतराम ने प्लेबैक का मौका दे दिया।

खय्याम के संगीत वाली यादगार फिल्मों में फुटपाथ, फिर सुबह होगी, शोला और शबनम, आखिरी खत, कभी कभी, शंकर हुसैन, त्रिशूल, उमराव जान. थोडी सी बेवफाई, बाज़ार और रज़िया सुल्तान शामिल है।