पश्चिमी एशिया में बढ़ा तनाव, लेबनान ने सऊदी पर लगाया अपने PM को अगवा करने का आरोप

नई दिल्ली (12 नवंबर): पश्चिमी एशिया में लगातार तनाव बढ़ता जा रहा है। लेबनान ने सऊदी अरब पर अपने प्रधानमंत्री को अगवा करने का सनसनीखेज आरोप लगाया है। 4 नवंबर को लेबनान के प्रधानमंत्री साद अल-हरीरी ने सऊदी की राजधानी रियाद से  रहस्यमय तरीके से अपने इस्तीफे की घोषणा की थी। पिछले हफ्ते इस्तीफा देने वाले लेबनान के पीएम के अब तक देश वापस न लौटने पर राष्ट्रपति मिशेल ईयन ने सऊदी अरब पर अपने प्रधानमंत्री को अगवा करने का आरोप लगाया है।

4 नवंबर को रियाद एयरपोर्ट को निशाना बनाकर एक मिसाइल दागी गई थी। सऊदी का आरोप है कि यह मिसाइल यमन से छोड़ी गई थी लेकिन इसे ईरान और लेबनान ने तैयार किया था। इसी दिन लेबनान के पीएम हरीरी ने अपनी जान को खतरा बताते हुए सऊदी अरब से इस्तीफे की घोषणा की थी। 

दरअसल सऊदी और ईरान के बीच जारी वर्चस्व की लड़ाई अपने चरम पर है और अब इसके आसपास के देश भी प्रभावित हो रहे हैं। सऊदी अरब हिज्बुल्ला को ईरान का आतंकी संगठन मानता है। लेबनान की हिज्बुल्ला समर्थित सरकार को सऊदी अरब मान्यता नहीं देता। ईरान से भी सऊदी का पुराना विवाद रहा है। सऊदी ने ईरान के हज यात्रियों पर भी पाबंदी लगा दी थी। सऊदी, ईरान पर महाद्वीप में दहशत और डर फैलाने का आरोप लगाता है। अल-हरीरी का इस्तीफा और अचानक गायब होना लेबनान और सऊदी के बीच संघर्ष का कारण बन सकता है।