Blog single photo

चंद्रयान-2: लैंडिंग प्रोग्राम में गड़बड़ी के कारण लैंडर विक्रम हुआ क्रैश?

विक्रम लैंडर से फिर से संपर्क होने की उम्मीद पूरा देश को थी, लेकिन वैज्ञानिकों की टीम को शुरुआत में ही फिर से संपर्क नहीं होने की जानकारी मिल गई थी। इसरो के वैज्ञानिकों को 7 सितंबर के शुरुआती पलों में ही पता चल गया था

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 सितंबर): विक्रम लैंडर से फिर से संपर्क होने की उम्मीद पूरा देश को थी, लेकिन वैज्ञानिकों की टीम को शुरुआत में ही फिर से संपर्क नहीं होने की जानकारी मिल गई थी। इसरो के वैज्ञानिकों को 7 सितंबर के शुरुआती पलों में ही पता चल गया था कि लूनर क्राफ्ट क्रैश के शुरुआती वक्त में ही पूरी तरह से नष्ट हो चुका है। चंद्रयान-2 की असफलता का आकलन कर रही टीम का मानना है कि ऑटोमैटिक लैंडिंग्र प्रोग्राम (एएलपी) में गड़बड़ी के कारण लैंडर विक्रम का ऐक्सिडेंट हुआ।

इसरो के जानकार लोगों ने जानकारी दी। 1,471kg के विक्रम और इसके साथ जुड़ा 27 किग्रा. का रोवर प्रज्ञान चांद की सतह से महज कुछ ही दूरी पर क्रैश कर गया। वैज्ञानिकों की टीम का मानना है कि अभी तक की अनुसंधान से ऐसा लग रहा है कि इस क्रैश के बाद लैंडर विक्रम के फिर से काम करने की उम्मीद लगभग ना के बराबर है। वैज्ञानिकों की राय है कि लैंडर विक्रम की क्रैश लैंडिंग के कारण या तो वह पलट गया है या मुड़ गया। लेकिन, इतना अधिक क्षतिग्रस्त नहीं हुआ कि वह पहचान में भी न आ सके।

तस्वीरों का आकलन करनेवाले एक वैज्ञानिक ने कहा, 'अभी तक जो मैंने देखा है उसके आधार पर कह सकता हूं कि लैंडर विक्रम की परछाई मुझे नजर आई है। मैं निश्चित तौर पर कह सकता हूं विक्रम अपने पैरों पर नहीं गिरा है। मुझे ऐसा लगता है कि कम से कम विक्रम के 4 पैर क्षतिग्रस्त हुए हैं। या तो ये मुड़ गए हैं या फिर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुका है।' इस असफलता के कारणों की पड़ताल करनेवाले एक और वैज्ञानिक ने कहा कि विक्रम का संपर्क निश्चित तौर पर 10 किमी. (पहले इसरो ने यह दूरी 2.1 किमी. बताई थी) से भी कम दूरी पर ही टूट गया।

 वैज्ञानिक का कहना है कि ऐसा लगता है चांद की सतह से 330 मीटर ऊपर पर लैंडर विक्रम का इसरो के कंट्रोल रूम से संपर्क टूट जाएगा। वैज्ञानिक ने विक्रम लैंडर के क्रैश होने की घटना पर कहा, 'चांद की सतह पर पहुंचने के लिए जब लैंडर विक्रम 200 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से ऊपर से नीचे की ओर उतर रहा था। उस वक्त प्रक्षेपक को अगर सब कुछ ठीक रहता तो एस्क्लेटर के तौर पर काम करता।' हालांकि, आखिरी मौके पर ही विक्रम लैंडर का संपर्क टूट गया। दो वैज्ञानिकों का कहना है कि अभी तक की जांच से ऐसा लग रहा है कि लैंडिंग प्रोग्राम में कुछ गड़बड़ी थी। लैंडिंग प्रोग्राम यूआर राव सैटलाइट सेंटर बेंगलुरु की ओर से लिखा गया था। एक वैज्ञानिक ने कहा, 'हमें देखना होगा कि लैंडिंग प्रोग्राम को जारी करने से पहले क्या इसका सही तरह से परीक्षण किया गया था या नहीं।' सॉफ्टवेयर प्रोग्राम का मुख्य उद्देश्य चंद्रमा की सतह को छूने से 15 मिनट पहले तक की दूरी और ऊंचाई के आधार पर कंट्रोल सुनिश्चित करना था।

चांद से जुड़े अंतरिक्ष मिशन के जनक देशों के लिए भी सॉफ्ट लैंडिंग एक बहुत बड़ा चैलेंज है। अमेरिका और रूस जैसे अंतरिक्ष विज्ञान के अग्रणी देशों के लिए भी यह एक बहुत बड़ी चुनौती है। चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग जीरो ग्रैविटी और अत्यधिक स्पीड के कारण बेहद मुश्किल काम है।

Tags :

NEXT STORY
Top