पानी को लेकर लालू यादव का बयान सुनकर हो जाएंगे हैरान

नई दिल्ली (9 फरवरी): राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू यादव और विवादों का चोली-दामन का रिश्‍ता है। वे सरकार में हों या इसमें सहयोगी हों और भले ही वह केंद्र की सरकार हो या बिहार की, किसी न किसी कारण से विवादों में बने रहते हैं। विपक्षी दलों को इससे बैठे-बैठाये आलोचना का मुद्दा मिल जाता हैं। लालू यादव ने बिहार के दरभंगा में फिर एक ऐसा ही बयान दिया है जिसे सुनकर आप चौक जाएंगे।

लालू यादव अब बिहार के लोगों को साफ पानी पीने नहीं देंगे। हां ये जरूर है कि जो लोग लालू-नीतीश को पिछले चुनाव में वोट दिए हैं उनके लिए साफ पानी का दरवाजा खुला है। लालू यादव चुनाव से पहले और चुनाव के बाद जीत और हार के बीच एक ऐसी लकीर खींची है जिसमें जातिवाद की बू आती है खासकर बीजेपी समर्थकों के लिए उन्होंने पूरा तौर पर दरवाजा बंद कर दिया है। लालू के बयानों में ये बात साफ तौर पर झलकती है।

बिहार चुनाव के बाद आरजेडी के हौसले बुलंद हैं, लालू प्रसाद यादव का सियासी कद बढ़ चुका है और अब लालू प्रसाद यादव अपने धुर विरोधी बीजेपी पर हमला बोलने का कोई मौका नहीं गंवाते। ऐसे में पार्टी प्रेसिडेंट बनने पर चुप रहते ऐसा कैसे हो सकता था। अध्यक्ष चुने जाने के बाद भी उन्होंने अपनी मंसा जाहिर कर दी थी।

लालू यादव का तंज या इस तरह का मजहिया बयान हमेशा सुर्खियां बटोरता है, लेकिन सियासत के चश्में देखा जाए तो लालू अपने धुर विरोधी को हाशिए पर डालने के लिए सियासत की मुख्यधारा से वाश आउट करन की कोशिश करते हैं।

कहा जाता है बिहार में लालू यादव के बिना पत्ता भी नहीं हिल रहा है। ऐसे हालात में लालू यादव का य कहना कि जो वोट नहीं दिए हैं उन्हें साफ पानी तक नहीं मिलेगा कई सवाल खड़े करता है। ...