लालू का बिहारवासियों के नाम इमोशनल खत, लिखा- बचपन से ही चुनौतीपूर्ण और संघर्ष से भरा है जीवन मेरा

नई दिल्ली ( 6 जनवरी ): चारा घोटाले में राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को सीबीआई की विशेष अदालत ने सजा सुना दी है। लालू को जहां साढ़े 3 की सजा सुनाई गई है, वहीं 5 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। सजा मिलने के बाद लालू यादव ने बिहार की जनता के लिए इमोशनल पत्र लिखा है। लालू ने पत्र को ट्वीट करते हुए लिखा है कि आप सबों के नाम ये पत्र लिख रहा हूं और याद कर रहा हूं अन्याय और ग़ैर बराबरी के खिलाफ। 

उन्होंने इस खत में अपने राजनीतिक सफर के बारे में विस्तार से जिक्र किया है। लालू का कहना है कि वो हमेशा से दब-कुचले लोगों के हक की बात करते आए हैं, जिस वजह से कुछ लोग उनके पीछे सालों से पड़े हैं और उन्हें तमाम मामलों में राजनीतिक साजिश के तहत फंसाया गया है। चारा घोटाले भी उन्हीं में से एक मामला है।

लालू यादव ने लिखा है कि बचपन से ही उनका जीवन चुनौतीपूर्ण और संघर्ष से भरा रहा है। लालू खत में लिखते हैं, 'मुझे वो सारे क्षण याद आ रहे हैं जब देश में गांव, गरीब, पिछड़े, शोषित, वंचित और अल्पसंख्यकों की लड़ाई लड़ना कितना कठिन था। वो ताकतें जो सैकड़ों साल से इन्हें शोषित करती चली आ रही थी वो भी नहीं चाहते थे कि वंचित वर्गों के हिस्से का सूरज भी कभी जगमगाएगा। लेकिन पीड़ितों की पीड़ा और सामूहिक संघर्ष ने मुझे अद्भूत ताकत दी और इसी कारण से हमने सामंती सत्ता के हजारों साल के उत्पीड़न को शिकस्त दी। लेकिन इस सत्ता की जड़ें बहुत गहरी हैं और अभी अलग-अलग संस्थाओं पर काबिज हैं।'   

यह पढ़े लालू यादव का पूरा पत्र...

आप सबों के नाम ये पत्र लिख रहा हूँ और याद कर रहा हूँ अन्याय और ग़ैर बराबरी के खिलाफ.. pic.twitter.com/PMTrOU8GB8

— Lalu Prasad Yadav (@laluprasadrjd) January 6, 2018