BREAKING NEWS: लालू-नीतीश के बीच शहाबुद्दीन को लेकर तनाव

पटना (12 सितंबर): माफिया डॉन शहाबुद्दीन को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आरजेडी मुखिया लालू प्रसाद यादव के बीच ठन गई है। इस बार लालू ने नीतीश पर वार करते हुए कहा कि बिहार सरकार ने राजदेव रंजन हत्याकांड की जांच सीबीआई को देने की सिर्फ औपचारिकता पूरी की गई।

इसी के साथ शहाबुद्दीन के बाद आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद की नीतीश के टिप्पणी को लेकर बिहार का मौहाल काफी गर्मा गया है। इसी को ध्‍यान में रखते हुए नीतीश कुमार ने एक हाईलेवल मीटिंग बुलाई और अपने मंत्रियों से बात करके बाहर आते ही लालू और आरजेडी दोनों पर जमकर बरसे। जेडीयू ने बड़ी बैठक कर आरजेडी नेताओं को चेतावनी दी है कि नीतीश के खिलाफ बयानबाजी से बाज आएं। जेडीयू ने लालू यादव को साफ कहा है कि आरजेडी के नेताओं को ऐसी बयानबाजी से उन्हें रोकना चाहिए।

इधर सूत्रों से खबर है कि नीतीश कुमार ने राज्य के एडवोकेट जनरल से कानूनी सलाह ली है। शहाबुद्दीन के जेल से निकलते ही लालू और नीतीश के नेताओं की बयानबाजी ने दोनों दलों को आमने सामने कर दिया है। पहले शहाबुद्दीन ने नीतीश को नेता मानने से इनकार किया और हालात वश सीएम बताते हुए मधु कोड़ा से तुलना कर दी, फिर रघुवंश प्रसाद ने कह दिया कि वे कभी नहीं चाहते थे कि नीतीश सीएम बनें। इन्हीं बयानबाजियों के बाद आज जेडीयू ने ये चेतावनी दी है।

मीटिंग के बाद जेडीयू को नीतीश की पार्टी ने दी यह सलाह...

- रघुवंश की टिप्पणी अर्मा‍यादित। - ऐसे बयानों से अच्छा संदेश नहीं जाता। - ऐसे बयानों पर रोक लगाए लालू यादव। - जेल आने जाने वालों पर प्रतिक्रिया नहीं देते। - शहाबुद्दीन पर कानून अपना काम करेगा। - शहाबुद्दीन पर सीसीए लगाया जा सकता है।