CBI छापे पर बोले लालू, कहा- यह नरेंद्र मोदी और अमित शाह की साजिश है


पटना (7 जुलाई): बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के 12 ठिकानों पर CBI ने छापेमारी की। CBI के अधिकारियों ने लालू की पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेजस्वी यादव से घंटों पूछताछ की। रांची से पटना लौटने के बाद लालू यादव ने कहा कि उनके और उनके परिवार के खिलाफ CBI की कार्रवाई बदले की भावना से कराई जा रही है। राजद सुप्रीमो लालू यादव ने कहा कि हम मिट्टी में मिल जाएंगे लेकिन बीजेपी एवं मोदी सरकार को हटा के दम लेंगे।


आरजेडी सुप्रीमो ने आरोप लगाया कि उन्हें बीजेपी और आरएसएस के खिलाफ बोलने की सजा दी जा रही है लेकिन वह किसी से डरने वाले नहीं हैं और विपक्ष को बीजेपी के खिलाफ एकजुट करने के लिए काम करते रहेंगे और इसके लिए 27 अगस्त को पटना में आयोजित रैली को और जोरशोर से आयोजित करेंगे।


अपने ऊपर लग रहे आरोपों को उन्होंने बेबुनियाद बताते हुए कहा कि 1999 में IRCTC का गठन किया गया। 2002 में वह सक्रिय हुई और उसे 2003 में रेलवे के दिल्ली, हावड़ा, रांची और पुरी के होटल दिये गये। उस समय केन्द्र में NDA की सरकार थी, तो गलती मैंने कैसे की?" उन्होंने आगे कहा कि उन्होंने तो रेलवे मंत्री का पद 31 मई, 2004 को संभाला और जिस मामले में CBI ने आज छापे डाले हैं और जो मामले उनके और उनके परिवार के खिलाफ दर्ज किए गए हैं वह सब तो उसके पहले ही हो चुका था।