इस प्रधानमंत्री ने भी लिया था PNB से लोन, निधन के बाद पत्नी ने चुकाया

नई दिल्ली (21 फरवरी): पंजाब नेशनल बैंक से 11500 करोड़ रुपये का लोन लेने के बाद फरार नीरव मोदी से पहले देश के प्रधानमंत्री रहे लाल बहादुर शास्त्री ने भी इस बैंक से कर्ज लिया था। प्रधानमंत्री शास्त्री ने पीएनबी से 5,000 रुपये का एक कार लोन लिया था, जिसे उनकी मृत्यु के बाद उनकी विधवा पत्नी ललिता ने अपनी पेंशन से चुकाया था। यह जानकारी उनके बेटे अनिल शास्त्री ने दी।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता अनिल शास्त्री ने कहा, 'हम टोंगा में सेंट कोलंबा स्कूल जाया करते थे। कभी-कभी हम ऑफिस की कार में जाते थे, लेकिन हमारे पिताजी ने निजी काम के लिए आमतौर पर कार का इस्तेमाल नहीं करने दिया। इसलिए घर में मांग थी कि हमें एक कार खरीद लेनी चाहिए।'

वर्ष 1964 में नई फिएट की कीमत 12,000 रुपये थी और शास्त्री परिवार के पास बैंक में सिर्फ 7,000 रुपये थे। प्रधानमंत्री ने 5,000 रुपये के लोन के लिए आवेदन दिया, जिसे उसी दिन अप्रूव कर दिया गया। हालांकि 11 जनवरी, 1966 को ताशकंद में शास्त्री जी का देहांत हो गया। लेकिन बकाया लोन शास्त्री जी की मृत्यु के बाद उनकी पत्नी ने मिलने वाली पेंशन से अदा किया।

शास्त्री परिवार द्वारा खरीदी गई क्रीम कलर की कार 1964 मॉडल थी जिसका नंबर DLE 6 था। अब यह कार राजधानी दिल्ली में 1 मोतीलाल नेहरू मार्ग, लाल बहादुर शास्त्री मेमोरियल में प्रदर्शनी में रखी है। पीएनबी की स्थापना 1894 में हुई थी और ब्रिटिश राज के दौरान इसकी शुरुआत के पीछे आइडिया था देश में एक स्वदेशी बैंक का होना। इस बैंक के शुरुआती निदेशकों में लाला लाजपत राय शामिल थे, जिन्होंने देश की स्वतंत्रता की लड़ाई में अहम योगदान दिया।