आराम फरमा रहे पुलिसवालों को इस एसएसपी ने दी अनोखी सजा

अविनाश, इटावा (5 अप्रैल): यूपी के इटावा में पुलिस टीम को आराम फरमाना महंगा पड़ गया। चेंकिग के दौरान आराम करते पाए जाने पर एसएसपी ने पूरी टीम को दौड़ लगाने की सजा सुना दी। वहीं गैरहाजिर जवानों के खिलाफ जांच के आदेश दिए गए।

हर दिन की तरह क्यूआरटी यानि क्विक रिस्पॉंस टीम शहर में निगरानी के लिए निकली थी। उसे निर्देशों के मुताबिक संवेदशीन इलाकों में नजर रखनी थी, लेकिन ऐसा होता नहीं था। कोई पुलिस टीम ऐसा करती भी नहीं थी। इसलिए सोमवार को भी क्विक रिस्पॉंस टीम ने गाड़ी को सड़क के किनारे पार्क किया और पुलिस के जवान हमेशा की तरह गाड़ी के भीतर आराम फरमाने लगे।

लेकिन सोमवार को आराम करना सभी जवानों पर भारी पड़ गया। दरअसल इसी दौरान एसएसपी मंज़िल सैनी शहर में चेंकिंग के लिए निकली। उनकी नजर क्विक रिस्पांस टीम पर पड़ी। एसएसपी मंजिल सैनी ने मौके का जायजा लिया और पाया कि गश्त के नाम पूरी टीम गाड़ी में बैठकर आराम कर रही है। इसके बाद एसएसपी मंज़िल सैनी ने तुरंत वो कदम उठाया, जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी।

एसएसपी मंज़िल सैनी ने आराम करते सभी पुलिस वालों को उसी गाड़ी में बिठाकर पुलिस लाइन भिजवा दिया। यहीं नहीं जवानों को पुलिस लाइन के ग्राउंड के कई राउंड लगाने की सजा सुना दी गई। सजा में कोई कोताही ना हो, इसके लिए आरआई को दौड़ लगाते पुलिस वालों की निगरानी करने की जिम्मेदारी सौंपी गई। इसके साथ ही ड्यूटी से गैर हाजिर दो जवानों के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दे दिए गए।

बीच सड़क पर पुलिस टीम की चेंकिग की घटना ने पूरे शहर में एक बार फिर से एसएसपी मंजिल सैनी को सुर्खियों में ला दिया है। इलाके में मंजिल सैनी लेडी सिंघम के नाम से जानी जाती है। बहरहाल पूरे मामले का सबक ये है कि यूपी की बदमान पुलिस फोर्स में कुछ ऑफिसर ऐसे भी हैं जो खाकी का पूरा सम्मान करते है।