'नवाज़ शरीफ ने चुनाव लड़ने के लिए लादने से लिये थे पैसे'

नई दिल्ली (29 फरवरी): पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने नवाज़ शरीफ ने बेनजीर भुट्टो के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए ओसामा बिन लादेन से आर्थिक मदद ली थी। यह दावा पाकिस्तान में प्रकाशित एक नई किताब खालिद ख्वाजा: शहीद-ए-अमन में किया गया है। शमामा खालिद इसकी ऑथर हैं। वो पाकिस्तान की इंटेलिजेंस एजेंसी आईएसआई के पूर्व अफसर खालिद ख्वाजा की पत्नी हैं। पाकिस्तानी अखबार 'डॉन डॉट कॉम' ने किताब के हवाले से लिखा है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज को ये पैसे जियाउल हक के शासन के बाद दिए गए थे।

किताब में ये भी दावा किया गया है कि नवाज और लादेन के बीच सांठगांठ थी। नवाज ने लादेन से पाकिस्तान में इस्लामी कानून लागू करने और उसकी सिक्युरिटी का वादा किया था, लेकिन सत्ता पर काबिज होते ही नवाज अपने वादे से पीछे हट गए। कुछ साल पहले आईएसआई के पूर्व अफसर ख्वाजा अब्बास ने भी सनसनीखेज खुलासा किया था। अब्बास के मुताबिक, लादेन-शरीफ के बीच पांच मुलाकात हुई थीं।

यही नहीं, नवाज को सऊदी रॉयल फैमिली के करीब लाने में भी लादेन का हाथ था। इस पूर्व आईएसआई अफसर के दावे के मुताबिक, पीएम रहते शरीफ ने लादेन से पाकिस्तान की मदद करने को भी कहा था। अब्बास ने यह भी खुलासा किया था कि 90 के दशक में शरीफ ने पीएम रहते लादेन से मुलाकात की थी। तब उन्होंने पाकिस्तानियों को सऊदी में नौकरी दिलाने में लादेन से मदद की गुहार लगाई थी। इसके अलावा पाकिस्तान में डेवलमेंट वर्क्स के लिए भी लादेन से पैसा मांगा था।