कुवैत में रह रहे भारतीय के लिए खुशखबरी, मिली बड़ी छूट

नई दिल्ली (23 जनवरी): कुवैत में काम कर रहे हजारों भारतीयों के लिए अच्छी खबर है। कुवैत सरकार ने अपने यहां अवैध रूप से रह रहे वैसे भारतीय पर कोई जुर्माना नहीं लगाने की बात कही है जो वहां वेतन भुगतान में देरी होने और मजदूरी नहीं मिलने की वजह से रहने के लिए मजबूर हैं। कुवैत सरकार ने ऐसे भारतीयों को 29 जनवरी से 22 फरवरी तक के लिए माफी मंजूर की है। कुवैत सरकार ने ये फैसला वहां काम कर रहे समाज सेवी शाहीन सैयद के अनुरोध पर किया है।

वहां काम कर रहे भारतीय नरेश नायडू के मुताबिक वो कुवैत में खरीफी नेशनल में काम कर रहे हैं और इस कंपनी ने वेतन मांगने पर उनका प्रवास बढ़ा दिया। कुवैत सरकार के इस ऐलान से वहां काम कर रहे नरेश नायडू जैसे भारतीय को अब बड़ी राहत मिलने की संभावना है। कुवैत सरकार के इस ऐलान के बाद नरेश नायडू ने अपना विवरण वहां स्थिति भारतीय दूतावास में जमा करवा दिया है ताकि उन्हें उनकी मजदूरी मिल सके और वो भारत लौट सकें। नरेश नायडू का कहना है कि कुवैत सरकार के इस फैसले से वहां कई ऐसे भारतीय हैं जो वतन लौटने के लिए उत्सुक हैं।

आपको बता दें कि कुवैत में बिना इजाजत रहने पर 2 दिनार यानी प्रति दिन 424 रुपये जुर्माने का प्रावधान है। ऐसे में वहां कई ऐसे भारतीय भी रह रहे हैं जिनकी मजदूरी से ज्यादा उनपर जुर्माना लगता है जिसे वो ठीक से भुगतान भी नहीं कर सकते।