IS को कड़ी टक्कर दे रही हैं कुर्दिश महिलाएं

नई दिल्ली ( 5 जनवरी ): दुनिया के सबसे खुंखार आतंकवादी संगठन ISIS के खिलाफ इराक और सीरिया में लड़ाई चल रही है। लड़ाई के मैदान में पुरुषों के साथ-साथ बड़ी संख्या में महिलाएं भी नजर आ रही हैं। ISIS के लड़ाके इराक और सीरिया में लगातार निर्दोष लोगों की हत्या कर रहा है।  

सीरिया में सक्रिय कुर्दिश विमिंज़ प्रॉटेक्शन यूनिट्स (YPJ) महिला लड़ाकों की ऐसी सैन्य टुकड़ी है, जो कि युद्ध के मैदान में पूरी ताकत से मोर्चे पर तैनात है और IS से लड़ रही है। इस लड़ाई में अरब मूल की और महिलाओं को शामिल करने की कोशिशें तेज हो गई हैं। ऐसी महिलाओं की तलाश हो रही जो कि IS के खिलाफ चल रही जंग से जुड़ना चाहती हैं। कट्टरपंथी अरब में आतंकवादियों के खिलाफ मोर्चा संभाल रही YPJ की ये महिलाएं ना केवल महिलाओं की आजादी और उनके सशक्तिकरण की पहचान बन रही हैं, बल्कि सामाजिक बदलाव की जड़ों को भी मजबूत कर रही हैं।

इस जंग में महिलाओं की सक्रियता और उनकी भूमिका बढ़ाने की कोशिश कर रही YPJ रक्का में अपनी सैन्य कार्रवाई को और तेज करने की भी तैयारी कर रही है। मालूम हो कि रक्का IS का मजबूत गढ़ है। YPJ की प्रवक्ता नेसरीन अब्दुल्ला ने बताया, 'YPJ की महिलाएं होने के तौर पर हम ना केवल IS से आजादी चाहते हैं, बल्कि कट्टरपंथी मानसिकता और विचारों से भी मुक्ति चाहते हैं।' मालूम हो कि कुर्दिश एक एथनिक समूह है और यह मध्यपूर्व के कुछ इलाकों में रहते हैं। इनकी भाषा और संस्कृति अरबों से अलग है। इनका मुख्य क्षेत्र पूर्वी और दक्षिण-पश्चिमी तुर्की, पश्चिमी ईरान, उत्तरी इराक और उत्तरी सीरिया है।