सेना में भर्ती हुई शहीद कर्नल संतोष महादिक की पत्नी

नई दिल्ली (6 जून): देश में हर हफ्ते आतंकियों से मुठभेड़ की खबरें आती हैं। आतंकियों से लोहा लेते हुए देश के जवान शहीद होते हैं। लेकिन आज हम शहादत के आगे की वो खबर आपको बताने जा रहे हैं, जिसे पढ़कर आप गर्व करेंगे। आपको याद होगी शहीद कर्नल संतोष महादिक की वीरता, जो पिछले साल नवंबर में कश्मीर में आतंकियों से लड़ते हुए वीरगाति को प्राप्त हुए थे। उन्हीं शहीद कर्नल संतोष महादिक की पत्नी अब सेना का हिस्सा बन गई हैं। शहीद की जांबाज पत्नी स्वाति महादिक अब सेना में भर्ती होकर ट्रेनिंग लेने पहुंच गई हैं।  

6 महीने पहले देश ने अपना एक वीर सपूत आतंकियों के साथ मुठभेड़ में खो दिया था। लेकिन छह महीने के भीतर ही वो खबर आई जिससे आतंकियों को भी खौफ खाएगा। नवंबर में देश के जांबाज बेटे कर्नल संतोष महादिक कुपवाड़ा में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए थे। तब सब रो रहे थे, जांबाज बेटे की कुर्बानी पर। लेकिन अब उन्हीं शहीद कर्नल संतोष महादिक की पत्नी स्वाति महादिक ने वो कर दिखाया कि दुश्मनों के हौसले पस्त हो जाएंगे। जो कर्नल संतोष महादिक कुपवाड़ा में शहीद हुए थे। अब उन्हीं शहीद कर्नल की पत्नी ने सेना में मोर्चा संभाल लिया है। शहीद कर्नल संतोष महादिक की पत्नी सेना में भर्ती हो गई हैं।

ये हैं वो जांबाज पत्नी स्वाति महादिक है, जिनके एक फैसले ने घरवालों को चौंका दिया था। क्योंकि छह महीने पहले 17 नवंबर को कुपवाड़ा में स्वाति के पति कर्नल संतोष महादिक आतंकियों के साथ एनकाउंटर में शहीद हो गए थे। तभी शहीद कर्नल संतोष महादिक की पत्नी ने फैसला ले लिया था कि वो और उनके बच्चे भी अब सेना में भर्ती होंगे। ग्यारह साल के बेटे और पांच साल की बेटी की मां, जिनके सिर पर जांबाज पति के शहीद होने के बाद दुखों का पहाड़ टूटा था। उन स्वाति महादिक अब एसएसबी का एग्जाम पास करके आर्मी की ट्रेनिंग लेने पहुंच गई हैं।

SSB का एग्जाम देने की उम्र 27 साल होती है। शहीद कर्नल की पत्नी स्वाति की उम्र 37 साल थी, लेकिन शहीद की पत्नी ने रक्षा मंत्रालय से विशेष इजाजत ली। SSB के एग्जाम को पास किया और अब चेन्नई में फौज की ट्रेनिंग लेने स्वाति महादिक पहुंच गई हैं। शहीद कर्नल संतोष महादिक की पत्नी स्वाति अब ट्रेनिंग लेने के बाद फौज में मोर्चा संभालेंगीं। ये खबर बताती है कि चूहों की तरह घात लगाकर हमला करने वाले आतंकी समझ जाएं कि देश में उनकी गोलियों से कोई नहीं डरता। उनकी गोलियों से ना कर्नल संतोष महादिक डरे, जिन्होंने सामने से लोहा लिया था और ना अब उनकी पत्नी स्वाति जो लोहा लेने के लिए मैदान में उतर पड़ी हैं।